एनआईए की छापेमारी : जानिये कौन है बेउर जेल में बंद विजय आर्य, एमए की ली है डिग्री, कई पत्र पत्रिकाओं का किया संपादन

एनआईए की छापेमारी : जानिये कौन है बेउर जेल में बंद विजय आर्य, एमए की ली है डिग्री, कई पत्र पत्रिकाओं का किया संपादन

AURANGABAD : एनआईए की टीम ने शुक्रवार की सुबह जेल में बंद शीर्षस्थ माओवादी नेता विजय आर्य के बिहार के औरंगाबाद और राजधानी पटना समेत कुल चार ठिकानों पर रेड डाला है। एनआइए नक्‍सली गतिविधियों से जुड़े मामलों को लेकर यह छापेमारी कर रही है। 


जानकारी के मुताबिक़ सुबह लगभग 5:30 बजे से रेड शुरू हुई है। बताते चलें की रोहतास जिले से गिरफ्तारी के बाद से विजय आर्य इस वक्त बेउर जेल में बंद हैं। विजय आर्य बड़े नक्सली नेता माने जाते है और वे शुरू से ही बेहद चर्चित रहे है। मगध विश्वविद्यालय, बोधगया ने उन्हे अपने बेवसाइट पर नोटेबल अलुमनी की सूची में एक नाम के रूप में शामिल कर रखा है। वह मगध विवि के छात्र रहे है। अर्थशास्त्र से स्नातकोत्तर (एमए) है। कई पत्र-पत्रिकाओं का संपादन किया है। जेल में रहते हुए भी पत्र-पत्रिकाओं में उनका लेख छपता रहा है। 

जेल में उन्हे माओवादियों का गांधी कहा जाता रहा है। माओवादी नेता ने गुरारू चीनी मिल के मजदूरों की लड़ाई से अपना राजनीतिक सफर शुरू किया था। बाद में वाम धारा की नक्सलपंथी संगठन एमसीसी में शामिल हो गये। माओवादी संगठन के सेंट्रल कमेटी के सदस्य बनने के बाद सरकार ने जिंदा या मुर्दा पकड़े जाने पर इनाम घोषित किया था। बाद में उन्हे गिरफ्तार किया गया। 

हालिया गिरफ़्तारी के पहले विजय आर्य करीब आठ वर्षों तक कटिहार, भागलपुर, बक्सर, करीम नगर, हैदराबाद, विशाखापट्नम, गया और सासाराम समेत अन्य जेलों में बंद रहे। वर्ष 2018 में न्यायालय ने बरी किया। तबसे जेल से बाहर थे और अपने घर पर रह रहे थे। इसके बाद पुनः गिरफ्तारी के बाद से बेउर जेल में बंद है।

औरंगाबाद से दीनानाथ मौआर की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News