नीतीश सरकार ने बदला निर्णय, अब 9 अगस्त को ढाई करोड़ पेड़ लगाने का नहीं बनेगा रिकॉर्ड

नीतीश सरकार ने बदला निर्णय, अब 9 अगस्त को ढाई करोड़ पेड़ लगाने का नहीं बनेगा रिकॉर्ड

Patna : 9 अगस्त पृथ्वी दिवस के मौके पर इसबार राज्य सरकार की ओर से ढाई करोड़ पौधरोपण का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन वह पूरा नहीं पायेगा। इस बात की जानकारी बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने दी है। 

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों से समारोह आयोजित कर पेड़ों को राखी बांध कर उनकी रक्षा का संकल्प लिया जाता था, मगर इस साल कोविड-19 के संक्रमण की वजह से बड़े पैमाने पर आयोजन करना संभव नहीं है। ऐसे में हर व्यक्ति रक्षाबंधन के दिन अपने परिसर और आस-पास के पेड़ों को राखी बांध कर वृक्षों की रक्षा का संकल्प लें और वृक्ष व पर्यावरण के प्रति अपना लगाव प्रदर्शित करें। 

उन्होंने कहा है कि ‘मिशन 2.51 करोड़ पौधारोपण’ के तहत पहले बिहार पृथ्वी दिवस, 09 अगस्त को एक दिन में ढाई करोड़ पौधारोपण का लक्ष्य तय किया गया था, मगर करोना संक्रमण को देखते हुए एक माह पूर्व से ही पौधारोपण का कार्य प्रारंभ कर दिया गया। 

इस बार जीविका दीदियों द्वारा लगाए गए 70 लाख पौधों में करीब 35 प्रतिशत फलदार पौधे लगाए गए हैं। पहली बार कृषि वानिकी के किसानों से प्रति पौधा 10 रु. का शुल्क लेकर उन्हें 12 लाख से अधिक पौधे दिए गए हैं। वन विभाग की ओर से स्टॉल लगा कर विभिन्न प्रकार के पौधों की बिक्री की व्यवस्था की गई है। व्यक्तिगत तौर पर पौधारोपण करने वाले वहां से भी पौधे खरीद सकते हैं। 

डिप्टी सीएम ने स्वयं सहायता समूह, जीविका दीदियों, आंगनबाड़ी केन्द्रों, सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स, लोक उपक्रमों, सरकारी संस्थानों, गौशाला, मठ, कब्रिस्तान,वन विभाग व कृषि वानिकी के किसानों से भी अपील की है कि बिहार पृथ्वी दिवस के दिन अपने-अपने परिसरों में एक-एक पौधा अवश्य लगायें।



Find Us on Facebook

Trending News