शराबबंदी पर सवाल उठाने वाले पूर्व सीएम मांझी को अब देना होगा नीतीश कुमार के सवालों का जवाब, कहा – ‘हम उनसे पूछ लेंगे’

शराबबंदी पर सवाल उठाने वाले पूर्व सीएम मांझी को अब देना होगा नीतीश कुमार के सवालों का जवाब, कहा – ‘हम उनसे पूछ लेंगे’

पटना. बिहार में शराब की बिक्री को गुजरात के तर्ज पर शुरू करने की पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की मांग पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हैरानी जताई है. उन्होंने शनिवार को कहा कि मांझी को याद दिलाते हुए कहा कि राज्य में सर्वसम्मति से शराबबंदी लागू की गई थी. शराब पीने से लोगों को नुकसान होता है. इन सब चीजों की जानकारी जीतन राम मांझी को नहीं होगी. हम उनसे पूछ लेंगे. 

दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के द्वारा बिहार में शराबबंदी को लेकर गुजरात मॉडल लागू करने की मांग के सवाल पर मुख्यमंत्री ने ये बातें कही. उन्होंने कहा कि हमे पता नहीं है कि मांझी ने क्या कहा है. जब वे हमसे मिलने आयेंगे तो हम उन्हें सारी बात बता देंगे. बिहार में शराबबंदी सर्वसम्मति से लागू हुआ था. शराब की लत को छोड़ने को लेकर हमने लोगों की ट्रेनिंग भी करवायी थी. शराब पीने से लोगों को नुकसान होता है. इन सब चीजों की उनको जानकारी नहीं होगी. हम उनसे पूछ लेंगे.

बिहार के सीएम नीतीश अपने शराबबंदी कानून पर लगातार अडिग हैं, वहीं उनके सहयोगी दल के नेता जीतन राम मांझी लगातार बिहार की शराबबंदी कानून पर सवाल उठा रहे हैं. वे इससे पहले भी कई बार नीतीश सरकार की शराबबंदी कानून पर सवाल उठा चुके हैं. एक दिन पहले ही मीडिया बात करते हुए बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा कि जिस तरह गुजरात में परमिट के आधार पर शराब मिल रही है, वैसे ही बिहार में भी लागू हो. 

हालांकि उन्होंने कहा कि शराबबंदी कानून ठीक है, लेकिन इसका क्रियान्वयन सही तरह से नहीं हो रहा है. इस कानून में बड़े-बड़े लोग छूट जा रहे हैं और गरीब लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर लेती है. उन्होंने कहा कि शराबबंदी नहीं बल्कि उसके क्रियान्वयन को लेकर सीएम नीतीश से मतभेद है. अब इसी पर नीतीश कुमार ने प्रतिक्रिया दी है कि वे मांझी को बुलाकर इस पर उनसे पूछेंगे. 


Find Us on Facebook

Trending News