अब कैश नहीं, सीधे एटीएम मशीन ही चुरा लेते हैं चोर, पटना के बाद अब इस शहर में हुई घटना

अब कैश नहीं, सीधे एटीएम मशीन ही चुरा लेते हैं चोर, पटना के बाद अब इस शहर में हुई घटना

MOTIHARI : चोर लुटरों ने अपने काम करने का तरीका बदल दिया है। अब चोर एटीएम से कैश की चोरी नहीं करते हैं, बल्कि पूरी मशीन ही चुराकर ले जा रहे हैं। पिछले कुछ माह में लगभग आधा दर्जन ऐसी घटना हो चुकी है। एक दिन पहले ही पटना में आईडीबीआई बैंक के एटीएम मशीन की चोरी की घटना हुई थी। वहीं ऐसी ही एक और घटना मोतिहारी जिले से सामने आयी है। यहां चोरों ने एसबीआई के एटीएम मशीन को ही चुराने की कोशिश की है। हालांकि जब वह इसमें कामयाब नहीं हुए तो मशीन के कैश काउंटर को चोरी कर फरार हो गए हैं। अब इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। 

घटना कोटवा थाना क्षेत्र के ओवरब्रिज के पास की बतायी जा रही है। यहां स्थित एसबीआई के एटीएम मशीन को ही चोर उठाकर ले गए। एटीएम चोरी की घटना शहर में जंगल की आग की तरह फैल गयी ।एटीएम चोरी की घटना देखने के लिए लोगो की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं घटना की सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई है और बैंक के अधिकारियों के पहुंचने का इंतजार किया जा रहा है। अधिकारियों के आने के बाद ही इस बात की जानकारी मिल सकेगी कि एटीएम में कितना कैश था।

एक माह पहले भी हुई थी ऐसी ही घटना

जिले में एटीएम मशीन चोरी की यह पहली घटना नहीं है। पिछले माह 22 नवंबर को ही पहाडपुर,तुरकौलिया व कोटवा में  चोरों ने घटना को अंजाम दिया था। जहां पहाडपुर में बैंक व पुलिस की सक्रियता से एटीएम तो बच गया था ।लेकिन चोरों ने कोटवा में एटीएम मशीन ही उखाड़ ले गए थे। वहीं तुरकौलिया में एटीएम काटकर चोरी की घटना को अंजाम दिया था। कोटवा व तुरकौलिया एटीएम से लगभग 40 लाख कैस चोरी का मामला आया था। घटना के एक माह वितने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली रहे। हालांकि खानापूर्ति के लिए एटीएम चोरी की घटना उद्भेदन नहीं होने पर एसपी द्वारा कोटवा के थानेदार को लाइन हाजिर की करवाई की गई थी। वही गश्ती टीम पर भी कार्रवाई की गई थी ।उसके बाद भी पुलिस कितना सक्रिय है इसका आपलोग खुद अनुमान लगा सकते है कि गश्ती करते रहे गए पुलिस व एटीएम मशीन काटकर उड़ गए।

कैश की जगह नगदी उड़ाना ज्यादा सेफ

आम तौर हर एटीएम मशीन सीधे उसके कंट्रोल रूम से जुड़ा होता है। इसमें होनेवाली किसी प्रकार की छेड़खानी की जानकारी कंट्रोल रूम में तत्काल पहुंच जाती है। साथ ही एटीएम मशीन में इतनी सिक्योरिटी होती है कि उसे तोड़ने के लिए एक्सपर्ट की जरुरत होगी। वहीं एटीएम मशीन में ज्यादा लंबे समय तक बैठकर कैश बॉक्स को काटपाना मुश्किल है, इस दौरान पकड़े जाने का खतरा अधिक होता है। वहीं जब एटीएम मशीन चोरी करते हैं तो सबसे पहले कंट्रोल रूम से संपर्क खत्म हो जाता है। साथ ही पैसे निकालने के दौरान पकड़े जाने का खतरा कम हो जाता है। यही कारण है कि अब इस तरह की घटनाएं अधिक सामने आ रही है। वहीं एटीएम में कोई सिक्योरिटी नहीं होने के कारण इसे चोरी करना बैंक लूट की तुलना में आसान हो जाता है। 


Find Us on Facebook

Trending News