अब सुशासन का क्या होगा...नीतीश कुमार के PM बनने की महत्वकांक्षा का गरीब राज्य कितनी कीमत चुकाएगा?

अब सुशासन का क्या होगा...नीतीश कुमार के PM बनने की महत्वकांक्षा का गरीब राज्य कितनी कीमत चुकाएगा?

पटना. बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने एक बार फिर महागठबंधन सरकार और लालू परिवार पर निशाना साधा है। उन्होंने नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली महागठबंधन सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि अब बिहार में जनप्रतिनिधि और काबिल अफसर नहीं, बल्कि लालू प्रसाद के दामाद और राजद कार्यकर्ता ही सरकार चलाएंगे। उन्होंने सीएम नीतीश पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि एक गरीब राज्य एक व्यक्ति के प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा की कितनी कीमत चुकाएगा? सुशासन का क्या होगा?

उन्होंने कहा कि चारा घोटाला वालों के आगे नीतीश कुमार इतने बेचारा और कमजोर हो गए कि वे सरकारी काम में अनुचित हस्तक्षेप नहीं रोक पाएंगे। सुशील मोदी ने कहा कि वन एवं पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप यादव की अध्यक्षता वाले प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की पहली समीक्षा बैठक में लालू प्रसाद के दामाद शैलेश कुमार न केवल मौजूद थे, बल्कि उसका संचालन कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि राजद के छोटे राजकुमार तेजस्वी प्रसाद यादव जब पथ निर्माण और स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा कर रहे थे, तब उनकी ठीक बगल में पार्टी कार्यकर्ता संजय यादव मौजूद थे। उन्होंने सवाल किया कि क्या नीतीश कुमार ने मंत्री के रिश्तेदारों, पार्टी कार्यकर्ताओं और निजी सचिवों को सरकारी बैठकों में शामिल होने का आदेश जारी कर दिया है? यदि नहीं, तो ऐसा होने पर संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई?

उन्होंने कहा कि अब सरकार उनकी है, जो अफसरों को चप्पल मार कर सीधा करने की धमकी दे चुके हैं। किसी आईएएस अधिकारी की मजाल नहीं कि वह सरकारी कामकाज में लालू परिवार का दखल रोक दे। मोदी ने सवाल उठाया कि यह गरीब राज्य एक व्यक्ति के प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा की कितनी कीमत चुकाएगा? सुशासन का क्या होगा?


Find Us on Facebook

Trending News