PM मोदी बोले- बिहार के लोगों का गंगा जी से गहरा नाता,CM नीतीश के प्रयास से बिहार में बहुत तेजी से हो रहे काम

PM मोदी बोले- बिहार के लोगों का गंगा जी से गहरा नाता,CM नीतीश के प्रयास से बिहार में बहुत तेजी से हो रहे काम

PATNA: PM नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बिहार की जलापूर्ति व सीवर से जुड़ी 543.28 करोड़ की विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया. ये परियोजनाएं केंद्र की नमामि गंगे और अमरुत योजना से जुड़ी हैं। इनमें पटना की बेउर और कर्मलीचक सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के अलावा सीवान, छपरा, मुंगेर, जमालपुर, मुजफ्फरपुर से जुड़ी परियोजनाएं शामिल हैं।

पीएम ने सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का किया उद्घाटन 
पीएम मोदी ने बेउर और कर्मलीचक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन किया. नगर परिषद सीवान और छपरा नगर निगम की जलापूर्ति योजना का उद्घाटन किया। वहीं मुजफ्फरपुर में रिवर फ्रंट विकसित करने और मुंगेर नगर निगम तथा जमालपुर नगर परिषद की जलापूर्ति योजनाओं का शिलान्यास किया।

बिहार के लोगों का गंगा जी से गहरा नाता


पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि पिछले डेढ़ दशक से सीएम नीतीश और मोदी की जोडी बिहार को समृद्ध करने में जुटी हुई है।अब केंद्र और बिहार के साझा प्रयास से शहरों में पीने का पानी और सिवरेज में निरंतर सुधार हो रहा है। 4-5 सालों में बिहार के शहरी क्षेत्र में लाखों परिवारों को पानी की सुविधा से जोड़ा गया है।आने वाले समय में बिहार देश के उन जगहों में होगा जहां हर घऱ में पाइप से पानी पहुंचने लगेगा। कोरोना के इस संकट काल में भी बिहार के लोगों ने निरंतर काम किया है। ग्रामीण क्षेत्र में 57 लाख से ज्यादा परिवारों को पानी के कनेक्शन से जोड़ा  गया है। एक साल में जल जीवन मिशन के तहत पूरे देश में 2 करोड़ से ज्यादा पानी के कनेक्शन दिये जा चुके हैं।हर दिन एक लाख से ज्यादा घरों को पानी के नए कनेक्शन से जोड़ा जा रहा। स्वच्छ पानी पानी गरीब परिवार का जीवन बेहतर बनाता है.पूरे बिहार में अमृत योजना के तहत 12 लाख परिवारों को पानी कनेक्शन से जोड़ने का लक्ष्य है।इसमें से 6 लाख परिवारों तक यह योजना पहुंच चुकी है।बहुत जल्द सभी परिवारों तक स्वच्छ पानी पहुंच जायेगी।

पीएम मोदी ने कहा कि शहरीकरण आज के दौर की सच्चाई है।शहरी क्षेत्रों की संख्या बढ़ रही है।कई दशकों से हमने ये मान लिया था कि शहरीकरण खुद में एक समस्या है। मेरा सोचना कुछ अलग है,अगर समस्या लगती है तो उसमें अवसर पर भी है। पहले था कि कुछ शहरों का विकास कर दो हो गया।लेकिन अब सोंच बदल गई है। आत्म निर्भऱ बिहार आत्म निर्भऱ भारत को गति देने के लिए तैयार करना बहुत जरूरी है।


प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि बिहार के शहरों का तो गंगाजी से बहुत गहरा नाता है। 20 बड़े शहर तो गंगाजी के तट पर बसे हैं। गंगाजी की स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए 6 हजार करोड की लागत से 50 से ज्यादा योजना स्वीकृत की गई है। सरकार का प्रयास है कि गंगा के किनारे बसे जितने शहर हैं वहां गंदा पानी सीधे गंगा में गिरने से रोका जाये। गंगा जी के किनारे बसे गांव को गंगा ग्राम के रूप में विकसति किये जा रहे हैं।शौचालय निर्माण के बाद कचरा प्रबंधन के लिए प्रोत्साहित किये जा रहे हैं।

देश भर के 180 घाटों का हो रहा विकास

नमामि गंगे मिशन के तहत 180 घाटों के निर्माण का काम चल रहा है। इसमें से 130 घाट पूरे हो चुके हैं।इसके अलावा 40 से ज्यादा मोक्ष धामों का काम पूरा किया जा चुका है।गंगा किनारे कई जगहों पर आधुनिक सुविधाओं से युक्त रिवर फ्रंट का काम चल रहा है।पटना में इस पर काम पूरा हो गया है।मुजफ्फरपुर में इसपर काम शुरू कर दिय़ा गया है।बिहार में काफी तेजी से काम होगा और इतना जल्दी काम पूरा होगा यह डेढ़ दशक पहले तक किसी ने सोंचा तक नहीं था।लेकिन नीतीश जी के प्रयास से यह पूरा हो रहा है। छठी मइया से आशीर्वाद से हम शहरी और ग्रामीण इलाकों में छठव्रतियों को गंदे पानी से निजात दिलाने के लिए काम कर रहे हैं. सरकार ने हाल ही में डॉल्फिन प्रोजेक्ट की घोषणा की है।इसका फायदा गंगा डॉल्फिन को भी होगा।गांगेय डॉल्फिन का भी संरक्षण होगा।

सीएम नीतीश ने पीएम मोदी को दी सलाह


इस अवसर पर बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि तीन साल के भीतर नमामि गंगे योजना के तहत बेउर और कर्मलीचक सीवर प्लांट का काम पूरा हो गया।यह काफी खुशी की बात है।तीन साल पहले प्रधानमंत्री ने इस योजना का शिलान्यास किया था। आज इन दो योजनाओं का उद्धाटन हुआ।सीएम नीतीश ने कहा कि अमरूत योजना के तहत 24 घंटे पानी देने की बात कही जा रही है।ऐसा करने से पानी की बर्बादी होगी।पानी देने की समय सीमा तय की जानी चाहिए।ऐसा करने से पानी की बर्बादी रूकेगी नहीं तो 24 घंटे लगातार पानी देने से लोग स्वच्छ पानी को बर्बाद करेंगे।यह पर्यावरण के दृष्टिकोण से ठी नहीं है।सीएम नीतीश ने कहा कि हम यह बात कह रहे हैं तो कुछ लोग हमारी शिकायत करेंगे और हम पर सवाल उठायेंगे। सीएम नीतीश ने कहा कि केंद्र सरकार कापी सुविधायें दे रही है।बिहार में केंद्र की जो योजनायें हैं उसे ससमय पूरा करायेंगे।अमृत योजनाओं की हमने समीक्षा भी है।

बिहार विधानचुनाव से पहले सौगातों की बारिश

प्रधानमंत्री 10 और 13 सितंबर को मत्स्य विभाग और पेट्रोलियम से जुड़ी कई परियोजनाओं का शुभारंभ कर चुके हैं। इसी क्रम में नगरीय विकास से जुड़ी परियोजनाओं का उद्घाटन-शिलान्यास 15 सितंबर को होना है। बिहार विधान चुनाव से पहले मोदी सरकार बिहार को लगातार केंद्रीय योजनाओं की सौगात दे रही हैं। पीएम मोदी की सरकार 13 सितंबंर को बिहार से जुड़ी 901 करोड़ रुपए की तीन योजनाओं का शुभारंभ किया था। इसमें पारादीप- हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन के दुर्गापुर-बांका खंड के 634 करोड़ रुपए की लागत से 193 किमी लम्बी पाइपलाइन का उद्घाटन समेत बांका में ही 131 करोड़ की लागत से एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का उद्घाटन भी शामिल था। वहीं 136 करोड़ रुपए की लागत से पूर्वी चम्पारण के सुगौली में न्यू एलपीजी प्लांट का भी शुभारंभ किया था। 

Find Us on Facebook

Trending News