कॉप-26 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने क्लाइमेट चेंज पर जतायी चिंता, सोलर प्रोजेक्ट्स पर बल देने का दिया संदेश

कॉप-26 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने क्लाइमेट चेंज पर जतायी चिंता, सोलर प्रोजेक्ट्स पर बल देने का दिया संदेश

Desk. स्कॉटलैंड के ग्लासगो में कल से कॉप- 26 शिखर सम्मेलन चल रहा है. इस कार्यक्रम के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्रीन एनर्जी पर अपनी बात रखी. उन्होंने ‘एक्सीलेरेटिंग क्लीन टेक्नोलॉजी इनोवेशन एंड डेवलपमेंट’ प्रोग्राम में भाषण के दौरान कहा कि एक सूर्य, एक विश्व और एक ग्रिड की कल्पना को अगर हम साकार कर पाते हैं तो इससे सोलर प्रोजेक्ट्स को बढ़ावा मिलेगा.

पीएम मोदी ने कहा कि, जरा सोचिए, इस कार्बन एमिशन कितना कम होगा और हम क्लीन और ग्रीन एनर्जी की तरफ बढ़ सकेंगे. इससे देशों के बीच सहयोग बढ़ेगा. जीवाश्म के ईंधन से कुछ देशों को फायदा जरूर हो सकता है, लेकिन इससे दुनिया को बहुत नुकसान होगा. इससे भौगोलिक तौर पर भी दिक्कतें बढ़ेंगी.

पीएम ने कहा कि ग्रीन ग्रिड की मेरी कई सालों पुरानी परिकल्पना को आज अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन और ब्रिटेन के ग्रीन ग्रिड इनिशिएटिव से एक ठोस रूप मिला है. औद्योगिक क्रांति को जीवाश्म ईंधन ने ऊर्जा दी थी. जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल से कई देश तो समृद्ध हुए लेकिन हमारी धरती, हमारा पर्यावरण निर्धन हो गए. जीवाश्म ईंधन की होड़ ने भू-राजनीतिक तनाव भी पैदा किए, लेकिन आज तकनीक ने हमें एक बेहतरीन विकल्प दिया है.


Find Us on Facebook

Trending News