प्रधानमन्त्री ने एससी/एसटी, पिछड़ों और अति-पिछड़ों को दिया सम्मान : कन्हैया

प्रधानमन्त्री ने एससी/एसटी, पिछड़ों और अति-पिछड़ों को दिया सम्मान : कन्हैया

JAMUI : कैबिनेट विस्तार में अनुसूचित जाति-जनजाति पिछड़े एवं अति पिछड़े वर्ग को मंत्रिमंडल में ऐतिहासिक प्रतिनिधित्व देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इतिहास रच दिया है। आजादी के बाद से अब तक इन वर्गों को केंद्रीय मंत्रिमंडल में सबसे ज्यादा प्रतिनिधित्व देने का काम मोदी सरकार ने किया है। इसके साथ ही महिलाओं और अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को मंत्रिमंडल में पर्याप्त संख्या में शामिल कर नरेंद्र मोदी ने "सबका साथ सबका विकास सब का विश्वास" के मूल मंत्र को कार्यान्वित करने का प्रयास किया है। इससे स्पष्ट होता है कि संपूर्ण कमजोर वर्गों के वास्तविक रहनुमा और मसीहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही हैं।

उक्त बातें बीजेपी के जिलाध्यक्ष कन्हैया कुमार सिंह ने एक बातचीत में जिला कार्यसमिति की बैठक के बाद कही। उन्होनें कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में कुल 77 मंत्रियों में 12 एससी, 8 एसटी, 27 ओबीसी, 5 अल्पसंख्यक और 11 महिलाओं का प्रतिनिधित्व दिया है। कमजोर वर्गों को इतना बड़ा प्रतिनिधित्व आज तक केंद्रीय मंत्रिमंडल में कभी भी नहीं मिला था। समाज के निचले पायदान पर रहनेवाले लोगों को राष्ट्रीय मुख्यधारा में लाने का जो काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है, उसको कभी नहीं भुलाया जा सकता है। संपूर्ण भारतवर्ष में इन वर्गों के लोगों में प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के प्रति सम्मान और विश्वास बढ़ा है।

उन्होनें कहा कि इसके पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एससी- एसटी ऐक्ट को पुनर्स्थापित किया था और उसके बाद ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा देने का बड़ा काम किया था। जिलाध्यक्ष ने कहा कि मोदी के इन निर्णयों से साबित होता है कि वह कमजोर वर्गों के लिए जमीनी स्तर पर वास्तविक काम करते हैं। वे पिछड़े वर्गों के दूसरे तथाकथित नेताओं की तरह सिर्फ जुबानी काम नहीं करते है।

जमुई से राकेश कुमार की रिपोर्ट


Find Us on Facebook

Trending News