पीएमसीएच में गंभीर बीमारियों के साथ-साथ खून और पेशाब तक की जांच बंद, दलाल हुए सक्रिए

 पीएमसीएच में गंभीर बीमारियों के साथ-साथ खून और पेशाब तक की जांच बंद, दलाल हुए सक्रिए

डेस्क...  बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में गंभीर बीमारियों के साथ-साथ खून और पेशाब तक की जांच बंद हो गई है। महत्वपूर्ण जांच इसीलिए बंद हुई है कि यहां उपकरणों की कमी है। आईडीएसपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी में अधिकत्तर कल्चर जांच बंद पड़े हैं। फिलहाल कोरोना वायरस जांच का हवाला देते हुए इसे बंद कर दिया गया है, जिससे हर दिन मरीजों की फजीहत हो रही है। मरीज प्राइवेट जांच घरों में जाने को मजबूर हो रहे हैं। 

 इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस प्रोग्राम यानी आईडीएसपी की रिपोर्ट में जो महत्वपूर्ण जांच बंद बताई गई है, उसमें टाइफाइड, ब्रेन से संबंधित होने वाली बीमारी मेनिनजाइटिस, गले की बीमारी के लिए डिप्थीरिया जांच, यूरिन कल्चर, कुष्ठ रोगियों के लिए लेप्रोसी की जांच, मलेरिया, पटना शहर के अलग-अलग हिस्सों के पानी की जांच, चिकनगुनिया, डेंगू, आईजीएम, चिकन पॉक्स, घाव के मवाद की पस कल्चर जांच, ब्रेन का फ्लूड, ब्लड कल्चर,  तथा फ्लूड जांच बंद पड़ी हुई है। इसमें कई ऐसी जांच हैं जो पिछले अप्रैल और मई से ही बंद है। 


इस प्रकार माइक्रोबायोलॉजी की लैब में भी 15 प्रकार की जांच बंद है। यह ऐसी जांच है जिसे पीएमसीएच की ओपीडी में या यहां भर्ती मरीज को डॉक्टर रूटीन जांच कराते हैं। ऐसे में मरीज या उनके परिजनों को बाहर की पैथोलॉजी में जांच कराने की मजबूरी हो गई है। इसे लेकर पीएमसीएच में दलाल भी सक्रिय हो गए हैं।

Find Us on Facebook

Trending News