पुलवामा के शहीदों को दी गयी श्रद्धांजलि, नवादा और गया में निकाला गया कैंडिल मार्च

पुलवामा के शहीदों को दी गयी श्रद्धांजलि, नवादा और गया में निकाला गया कैंडिल मार्च

GAYA : आज के ही दिन पुलवामा में आतंकी ने सीआरपीएफ काफिले पर कातिलाना तरीके से हमले कर दिया था.  जिसमे सीआरपीएफ के 40 शहीद हो गए थे. आज गया शहर में मासूम बच्चे ने शहीद जवानों को आत्मा के शांति के लिए गया शहर में शांति कैंडल मार्च निकाला गया. यह कैंडल मार्च गया शहर के दिग्घी तालाब, गया समाहरणालय, राय काशीनाथ मोड़ होते हुए गांधी मैदान जाकर समाप्त हुआ.

इस संदर्भ में शांति कैंडल मार्च में शामिल राहुल कुमार ने बताया कि आज ही के दिन पुलवामा में हमारे देश के जवान शहीद हुए थे. जिनकी शहादत दिवस के रूप में आज हम छोटे-छोटे बच्चों मिलकर गया शहर के मुख्य चौक चौराहे पर शांति कैंडल मार्च निकाला है. यह कैंडल मार्च हम लोग प्रत्येक वर्ष निकालते हैं. आगे भी निकालते रहेंगे. इसमें छोटे-छोटे बच्चों का सहयोग मिल रहा है. कैंडल मार्च में शामिल मासूम बच्ची सोनम कुमार ने बताया कि आज ही के दिन पुलवामा में हमारा देश के जवान शहीद हुए थे. जिनकी याद में आत्मा की शांति के लिए गया शहर में कैंडल मार्च निकाले हैं. 

वहीँ नवादा के हरिशचंद्र स्टेडियम में बाबा फिजिकल ट्रेनिंग सेंटर की ओर से पुलवामा हमला में शहीद हुए जवानों को के प्रति श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस मौके पर आर्मी भर्ती और आरपीएफ की तैयारी कर रहे नौजवानों ने पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें नमन किया. यह पूरा कार्यक्रम जीतू कुमार के देखरेख में किया गया. 

जीतू कुमार ने बताया कि हम लोग आज देश के वीर जवानों को याद किए हैं. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से लेकर देश भर में 14 फरवरी 2019 का दिन ऐसे घाव दे गया. जिसे कभी भूला नहीं जा सकता. इस दिन पुलवामा में अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ था, जो कि उड़ी से भी बड़ा था. इस हमले ने न जाने कितने परिवार उजाड़ कर रख दिए थे. यह केवल एक हमला नहीं है जो जम्मू-कश्मीर के लोगों की खौफनाक यादों में हैं, बीते कुछ सालों में हुए और भी हमले हैं जो चाहकर भी भूले नहीं जा सकते हैं. जीतू कुमार, अनिल कुमार, सुरेंद्र यादव मुन्ना यादव विकास कुमार आदि कई लोग उपस्थित थे

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News