नीतीश के जेल रिटर्न मंत्री से मोदी का सवाल कि राज्य सरकार के कितने पैसे का गबन का आरोप है, जवाब दीजिए

नीतीश के जेल रिटर्न मंत्री से मोदी का सवाल कि राज्य सरकार के कितने पैसे का गबन का आरोप है, जवाब दीजिए

PATNA : महागठबंधन में मंत्री बने विधायकों पर दागी होने के आरोप लग रहे हैं। पहले विधि मंत्री और शिक्षा मंत्री पर दागी होने के आरोप लगाए गए। अब बारी बिहार के कृषि मंत्री और राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे सुधाकर सिंह पर भी भाजपा ने बड़ा आरोप लगा दिया है। इसके साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  पर भाजपा ने एक दागी मंत्री को बचाने का आरोप लगाया है।

आज भाजपा कार्यालय में पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने बताया कि बिहार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर 12 करोड़ से अधिक की राशि बकाया है, जिसे अब तक वसूला नहीं जा सका है। जिसमें उनके खिलाफ केस भी दर्ज हुआ था, लंबे समय तक जेल में रहे और 60 लाख जमा करने के बाद उन्हें जमानत मिली थी। यहां तक कि पैसे वसूली के लिए नीतीश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया था, जिसे पैसे वसूले जाने के निर्देश दिए थे। 

सुधाकर सिंह पर यह आरोप 

सुशील मोदी मे जगदानंद सिंह के बेटे सुधाकर पर आरोप लगाया है कि रामगढ़ में उनके दो राइस मिल हैं 1. सोन वैली राइस मिल, 2. सुधाकर राइस मिल। इन दोनों राइस मिल के नाम से उन्होंने 2013 में राज्य खाद्य निगम से 5.31 करोड़ रुपए के सरकारी चावल का उठाव किया और उसे अवैध रूप से बेच दिया। इस मामले में राज्य खाद्य निगम ने सुधाकर सिंह के खिलाफ रामगढ़ थाने में भी अपराध दर्ज कराया था। वहीं इन्हीं आरोपों के बाद जिला पंजीयक कार्यालय ने सर्टिफिकेशन केस दर्ज कराया था। 

केस रद्द करने के लिए हाईकोर्ट पहुंचे थे

सुशील मोदी ने बताया कि अपने खिलाफ हुए केस को रद्द करने के लिए वह 2014 में हाईकोर्ट पहुंचे थे। जहां कोर्ट ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया और पैसे जमा करने के निर्देश दिए। लेकिन उन्होंने पैसा नहीं किया, बाद में उन्हें इसी मामले में वह लंबे समय तक जेल में भी रहे। कोर्ट के आदेश पर 60 लाख जमा किया, तब उन्हें बेल मिली थी। सुशील मोदी ने बताया कि इन आठ साल में यह 5.31 करोड़ की राशि पर ब्याज जोड़ दिया जाए तो यह राशि 12 करोड़ से अधिक हो जाती है। जो कि सुधाकर सिंह से वसूला जाना है। 

मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा 

सुधाकर सिंह से पैसे वसूली के लिए उस समय के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपील भी की थी, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा था कि सुधाकर सिंह को यह राशि सरकार को देनी होगी, लेकिन सरकार यह राशि कैसे लेगी यह वह खुद तय करें। साफ है कि सुप्रीम कोर्ट ने वसूली करने पर रोक नहीं लगाई थी।

सीएम को बता रहे गलत

सुशील मोदी यही पर नहीं रूके। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्री बनने के बाद सुधाकर सिंह यह कह रहे हैं कि नीतीश कुमार की नीति गलत है। वह इस नीति को बदलेंगे। जिस नीति पर अब तक नीतीश कुमार खुद इतने साल से काम कर रहे हैं। अब उन्ही की सरकार में उन्ही का कृषि मंत्री यह कह रहा है कि उनकी नीति गलत है। क्या नीतीश कुमार अपनी दस साल पुरानी नीति बदलेंगे।

 सुधाकर सिंह से पूछे सवाल

  1. कृषि मंत्री बताएं कि उनके खिलाफ राज्य सरकार के गबन के आरोप हैं या नहीं
  2. इस गबन के आरोप में उन्हें जेल में रहना पड़ा था या नहीं।
  3. क्या यह सच नहीं है कि सुधाकर सिंह ने प्राथमिकी रद्द करने के लिए पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।
  4. क्या यह सही नहीं है कि सुधाकर सिंह को 60 लाख जमा करने पर बेल मिला था
  5. क्या यह सही नहीं है कि ब्याज सहित 12 करोड़ रूपए बिहार सरकार का बकाया है।

नीतीश कुमार से पूछे सवाल

  1. क्या नीतीश कुमार लालू-जगदानंद सिंह के दवाब में बदलाव कर सुधाकर सिंह को राहत देंगे।
  2. नीतीश जी, जवाब दें कि जिस पर राज्य सरकार का 12 करोड़ बकाया है, उसे मंत्री बनाए रखना उचित है

Find Us on Facebook

Trending News