मुख्यमंत्री जी संभल जाइए... यहां भी अरूणाचल प्रदेश वाला हाल होने की आशंका, कैबिनेट विस्तार से पहले कहीं BJP अपना विस्तार न कर ले-RJD

मुख्यमंत्री जी संभल जाइए... यहां भी अरूणाचल प्रदेश वाला हाल होने की आशंका,  कैबिनेट विस्तार से पहले कहीं BJP अपना विस्तार न कर ले-RJD

DESK: बीजेपी और जेडीयू के बीच गठबंधन है लेकिन भाजपा ने अरुणाचल प्रदेश में जनता दल (यूनाइटेड) को तगड़ा झटका दिया है। उसके छह विधायकों को सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने तोड़ लिया है। BJP द्वारा नीतीश कुमार की पार्टी के 6 विधायकों को तोड़ कर अपने पाले में लेने के बाद राजद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमारक को सचेत किया है। राजद ने कहा कि अब भी समय है कि नीतीश सचेत हों वरना यहां भी अरूणाचल प्रदेश वाली स्थिति आने वाली है।

राजद ने सीएम नीतीश को दी सलाह 

राजद के प्रदेश प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि बीजेपी ने अरूणाचल प्रदेश में जेडीयू के 6 विधायकों को अपने पाले में कर लिया। यही हाल अब बिहार में होने वाली है। बीजेपी के 2 डिप्टी सीएम दिल्ली में जाकर प्रधानमंत्री,गृह मंत्री और राष्ट्रपति से मुलाकात किये हैं. इसके कई मायने निकाले जा रहे हैं. कहीं मंत्रिमंडल विस्तार से पहले बीजेपी अपना विस्तार न कर ले। राजद ने सलाह देते हुए कहा कि नीतीश कुमार के लिए अब भी मौका है संभले, वरना बीजेपी यहां भी अरूणाचलप्रदेश वाला हाल करने वाली है।

जेडीयू के ये विधायक भाजपा में हुए शामिल

भाजपा में शामिल होने वाले जदयू विधायकों के नाम तलेम तबोह, जिक्के ताको, हयेंग मंगफी, दोर्जी वांग्डी खर्मा, डोंग्रु सियोंग्जु, कांगोंग ताकू शामिल हैं। वहीं भाजपा का दामन थामने वाले पीपीए विधायक का नाम कर्डो न्याग्योर है। पीपीए ने इस महीना के शुरू में न्याग्योर पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाते हुए निलंबित कर दिया था।

बिहार में  जेडीयू-बीजेपी की सरकार
बता दें,बिहार में जेडीयू और बीजेपी की साझा सरकार है। नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू  इस बार छोटे भाई की भूमिका में आ गई है। इसके बाद अब भाजपा ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है। अरुणाचल में जेडीयू के 6 विधायकों को तोड़े जाने के बाद जेडीयू-बीजेपी के रिश्तों में एक बार फिर से खटास आ सकती है। 

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों में भाजपा और जदयू की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) 125 सीटों के साथ कांटों के मुकाबले में बहुमत पाने में कामयाब रहा था। हालांकि इस चुनाव में नीतीश की अगुवाई वाले जदयू को काफी नुकसान उठाना पड़ा, लेकिन भाजपा ने जबर्दस्त कामयाबी हासिल की।जदयू ने विधानसभा चुनाव 2020 में 115 प्रत्याशी उतारे थे, जिनमें से 43 जीते और 72 चुनाव हार गए।जबकि भाजपा को 74 सीटें मिली। इस तरह से एनडीए में बीजेपी अब बड़े भाई की भूमिका में आ गई है।



Find Us on Facebook

Trending News