आय से अधिक संपत्ति में मामले में EOU की कार्रवाई : थानेदार संजय प्रसाद ने दो सालों में अपने वेतन का एक भी रुपये नहीं किया खर्च, छापे के दौरान 2.30 लाख रुपये नगद जब्त

आय से अधिक संपत्ति में मामले में EOU की कार्रवाई : थानेदार संजय प्रसाद ने दो सालों में अपने वेतन का एक भी रुपये नहीं किया खर्च, छापे के दौरान 2.30 लाख रुपये नगद जब्त

पटना. आय से अधिक संपत्ति के मामले में सारण के डोरीगंज के तत्कालिन थानाध्यक्ष संजय प्रसाद के ठिकाने पर आर्थिक अपराध इकाई ने छपा मारा है. इस दौरान इकाई ने 2 लाख 30 हजार रुपये कैश बरामद की हैं तथा तलाशी में मुजफ्फरपुर स्थित आवास से भूखंड निबंधन में व्यय की गयी 71 लाख रुपये संबंधी दसतावेज जब्त किये गये हैं. वहीं आर्थिक अपराध इकाई संजय प्रसाद के बैंक खातों को फ्रीज कर करने की कार्रवाई कर रहा है. साथ ही संजय प्रसाद के द्वारा अर्जित अन्य चल एवं अचल संपत्ति की भी जानकारी प्राप्त होने की संभावना है. 

अवैध संपत्ति के मामला में निलंबति हुए डोरीगंज थानध्यक्ष संजय प्रसाद को लेकर बिहार के आर्थिक अपराध इकाई ने बड़ा खुलासा किया है. आर्थिक अपराध इकाई ने बताया कि संजय प्रसाद ने अपनी वैध संपत्ति से 24 लाख 82 हजार 944 रुपये अधिक अर्जन किया. साथ ही इकाई ने अपने खुलासा में बताया कि तत्कालीन थानध्यक्ष संजय प्रसाद ने 2015-17 के दौरान उन्होंने अपने वेता का एक भी रुपये खर्च नहीं किया. इकाई ने बताया कि संजय प्रसाद की कुल चल और अचल संपत्ति 49 हजार 64 लाख 914 रुपये पायी गयी है तथा कुल अनुमानित व्यय करीब 35 लाख 18 हजार 30 रुपये पायी गयी है.

वहीं आर्थिक अपराध इकाई ने अपने खुलास में कहा कि संजय प्रसाद की पत्नी के नाम से छपरा लोदी माड़ीपुर में 1725 वर्गफीट जमीन भी पायी गयी, जिसकी किमत 29 लाख 80 हजार है. साथ ही इनकी पत्नी के बैंक खाते में 7 लाख 10 हजार रुपये पाये गये हैं. वहीं संजय प्रसाद ने जीवन बिमा पॉलिसियों में 11 लाख 24 हजार 914 रुपये निवेश किया है. इसके अतिरिक्त्त ग्लैमर बाइक, जिसकी कीमत 50 हजार रुपये तथा एक बुलेट, जिसकी किमत एक लाख रुपये पायी गयी है.

संजय प्रसाद 2009 बैच के पुलिस अवर निरीक्षक है. वह मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी एवं सारण में पदास्थापित रहे हैं. इनकी नियुक्ति 30 जुन 2009 को हुई थी. इन पर अवैध बालू खनन और गैरकानूनी व्यापर को लेकर पद का दुरुपयोग करने का आरोप है....


Find Us on Facebook

Trending News