सोनपुर मेले में गायिका मैथिली ठाकुर ने बिखेरा जलवा, एक से बढ़कर एक गाने सुनकर मंत्रमुग्ध हुए श्रोता

सोनपुर मेले में गायिका मैथिली ठाकुर ने बिखेरा जलवा, एक से बढ़कर एक गाने सुनकर मंत्रमुग्ध हुए श्रोता

SONPUR : हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला के अवसर पर पर्यटन विभाग के मुख्य मंच पर एक से बढ़कर एक गायकों की मधुर आवाज सुनने का मौका मिल रहा है। बुधवार की देर शाम मैथिली और भोजपुरी की गायिका मैथिली ठाकुर के भजनों पर श्रोता खूब झूमे। वह काफी देर तक जय श्रीराम का जयघोष करती हुई लोगों जयकारा लगवाती रही। 


गायिका मैथिली ठाकुर को सुनने के लिए मुख्य पंडाल श्रोताओं की भारी भीड़ उमड़ी थी। मैथिली ठाकुर ने अपनी प्रस्तुति की शुरुआत देवी भगवती की स्तुति से की। इसके बाद उन्होंने महिषासुर मर्दनी स्त्रोतम, शिव तांडव के बाद राम जी से पूछे जनकपुर के नारी, हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की... ये रामायण है पुण्य कथा श्रीराम की,दमादम मस्त कलन्दर, छाप तिलक सब छीनी रे,मेरे रस्मे कमर, वो जो आंखों से एक पल बालन ओझल हुए सहित कई गीतों की प्रस्तुति कर महौल खुशनुमा  बना दिया। 

कार्यक्रम के दौरान मैथिली ने पारंपरिक होली गीत 'बाबा हरिहरनाथ सोनपुर में रंग खेले' पारम्परिक होली की प्रस्तुति की तो दर्शक अपनी जगह पर खड़े होकर नाचने लगे। इसके बाद  मशहूर गायिका मैथिली ठाकुर ने छाप तिलक सब छीनी रे मोसे नैना मिलायके, ऐ पहुना एही मिथिले में रहु ना, मेरे सरकार आये है, भजनो, लोकगीतों व फिल्मी गाने की प्रस्तुति से समां बांध दिया। मैथिली के साथ उनकेे भाई अयाची ठाकुर और ऋषभ ठाकुर भी मौजूद थे। 

मैथिली ने डिम डिम डमरू बजावेला हामार जोगिया, छाप तिलक सब छीनी रे और नगरी हो अयोध्या सी, रघुकुल सा घराना हो , और चरण हो राघव के, जहाँ मेरा ठिकाना हो भजन की प्रस्तुति से सभी को खूब झुमाया। उपस्थित लोगों ने गाने का खूब आनंद लिया। उनके गानों को सुनकर दर्शक भी झूमने लगे। कार्यक्रम का समापन उन्होंने गजल से की। इस दौरान मौजूद एडीएम डॉ गगन ने लोगों की जबरदस्त उत्साह देख मैथिली ठाकुर को आने वाले वर्षों में भी सोनपुर मेला में कार्यक्रम आयोजित करने का भरोसा दिया। मैथिली ठाकुर के कार्यक्रम का शानदार संचालन चर्चित उद्घोषक संजय भारद्वाज ने किया।

छपरा से संजय भारद्वाज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News