बिहार में छह सीटें SC-ST की, तीन सीटें पासवान परिवार के पास, फिर कैसे बन गए पिछड़ों के मसीहा, बचौल ने उठा दिया बड़ा सवाल

बिहार में छह सीटें SC-ST की, तीन सीटें पासवान परिवार के पास, फिर कैसे बन गए पिछड़ों के मसीहा, बचौल ने उठा दिया बड़ा सवाल

PATNA : बिहार में दिवंगत रामविलास पासवान को पिछड़ी जाति का मसीहा माना जाता है। उनके निधन के बाद अब परिवार के लोगों को भी यह लगता है कि वह भी पिछड़ी जाति के लोगों के मसीहा हैं, तो यह उनकी भूल है। यह कहना है बिहार बीजेपी के फायर ब्रांड विधायक हरिभूषण बचौल का। 

मीडिया के साथ बात करते हुए बिस्फी विधायक ने कहा कि चिराग पासवान या रामविलास पासवान के परिवार के लोगों को पिछड़ों का नेता कहना कहीं से भी शोभा नहीं देता है। क्योंकि उन्होंने सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचा। बचौल ने कहा कि बिहार में लोकसभा में छह सीटें पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित है। लेकिन इनमें से तीन सीटों पर सिर्फ एक ही परिवार का कब्जा है। ऐसे में बाकि पिछड़ी जातियों का विकास कैसे होगा। उन्हें आगे बढ़ने का मौका  कैसे मिलेगा। 

हाजीपुर स्टेशन का नाम बदलने का किया स्वागत

इस दौरान उन्होंने हाजीपुर स्टेशन का नाम रामविलास पासवान के नाम पर किए जाने की मांग का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि रामविलास जी बड़े नेता थे। अगर उनके नाम पर स्टेशन पर होता है तो यह बेहतरीन कदम होगा। इस दौरान उन्होंने चिराग पासवान द्वारा सभी जिले में दिवंगत नेता की प्रतिमा लगााने के फैसले का भी स्वागत किया।



Find Us on Facebook

Trending News