गांव के तालाब में मिला दलित किशोरियों का शव, एक सप्ताह पहले हो गई थी लापता

गांव के तालाब में मिला दलित किशोरियों का शव, एक सप्ताह पहले हो गई थी लापता

हाजीपुर। वैशाली जिले के महुआ थाने एक गांव से बीते 2 जनवरी को लापता दो दलित युवतियों का शव गावं से एक किलोमीटर दूर स्थित तालाब से बरामद किया गया है। दोनों युवतियों के शव मिलने के बाद गांव में हड़कंप मच गया है। परिजनों का आरोप है कि शिकायत करने के बाद भी पुलिस ने उन्हें ढूंढने की कोई कोशिश नहीं की। परिजनों ने गांव के युवकों पर दोनों के अपहरण करने का मामला दर्ज कराया था। 

मामले में मिली जानकारी के अनुसार बीते  2 जनवरी को वैशाली जिले के एक गांव से 14 साल और 16 साल की दो लड़कियां अचानक घर के पास से गायब हो गईं. दोनों लड़कियां दोस्त थीं. दोनों युवतियों के नाम आरती और निशा कुमारी बताया गया है। दोनों रिश्ते में बुआ-भतीजी थी। दो दिन तक तलाश करने के बाद 4 जनवरी परिजनों ने पुलिस को उनके गायब होने की सूचना दी। हालांकि, पुलिस ने दोनों लड़कियों के एक साथ गायब हो जाने की लिखित शिकायत पर अपहरण की धारा में FIR तो दर्ज कर ली, लेकिन आरोप है कि बजाय कोई एक्शन लेने के पुलिस ने परिजनों को ही खुद ढूंढने की सलाह देकर मामले में ढिलाई बरती. परिजनों का आरोप है कि इस मामले में आरोपियों द्वारा केस करने पर युवतियो को जान से मारने की भी धमकी दी गयी थी।

चेहरा जलाया, जीभ भी काट दिया

किशोरी के भाई ने बताया कि दोनों की हत्या की गई है। उनके चेहरे को तेजाब से जलाने की कोशिश की गई है, जीभ भी काट दिया गया है, सिर पर चोट के निशान भी है. जिन्हें देखकर लगता है कि दो दिन पहले उन्हें मारा गया है और पोखर में फेंक दिया गया है।

लाश मिलने के बाद दुष्कर्म और हत्या की जता रहे संभावना

लगभग एक सप्ताह बाद गांव से करीब 1 किलोमीटर दूर तालाब में दोनों किशोरियों के शव बरामद हुए. अजब दोनों लड़कियों का शव सामने आया तो पुलिस एक्शन मोड में दिखी. पुलिस ने मामले में सफाई देते हुए कहा कि FIR के बाद जरूरी कार्रवाई की जा रही थी.  फिलहाल, अब ताबड़तोड़ एक्शन का दावा कर रही पुलिस ने कहा कि अपहरण के इस मामले में हत्या की धारा भी लगाई जाएगी. रेप की जांच के लिए मेडिकल टीम और पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी कराई जाएगी.  



Find Us on Facebook

Trending News