दुमका की बेटी अंकिता के परिवार से साथ सरकार ने किया बड़ा मजाक, सरकारी नौकरी का वादा कर थमा दी चपरासी की कांट्रेक्ट वाली नौकरी, जानें क्या था परिवार की प्रतिक्रिया

दुमका की बेटी अंकिता के परिवार से साथ सरकार ने किया बड़ा मजाक, सरकारी नौकरी का वादा कर थमा दी चपरासी की कांट्रेक्ट वाली नौकरी, जानें क्या था परिवार की प्रतिक्रिया

DUMKA : सनकी आशिक के हाथ जिंदा जलकर मारी गई दुमका की रहनेवाली अंकिता के परिवार के साथ झारखंड सरकार ने बड़ा मजाक किया है। झारखंड की सोरेन सरकार ने दबाव में आकर अंकिता के परिवार को दस लाख मुआवजा देने की घोषणा की थी। लेकिन अब सरकारी नौकरी के नाम पर झारखंड सरकार ने चपरासी की नौकरी का नियुक्ति पत्र परिवार को दिया है। यह नौकरी भी सरकारी न होकर 11 महीनेवाले कांट्रेक्ट जॉब है। जिसके बाद अब मृतका के परिवार ने इस नौकरी को लेने ने इनकार कर दिया है। 

मामला तब उजागर हुआ जब अंकिता की बड़ी बहन नियुक्ति पत्र जिले के डीसी को लौटने उनके कार्यालय पहुंची। अंकिता की बड़ी बहन इशिका ने बताया की नियुक्ति पत्र वह डीसी को लौटने आई है। दुमका के विधायक बसंत सोरेन ने उसे पिछले दिनों नियुक्ति पत्र सौंपा था। बात सरकारी नौकरी की हुई थी लेकिन उसे प्राइवेट जॉब का नियुक्ति पत्र सौंपा गया। सरकार द्वारा दिए गए धोखे से उसका परिवार सदमे में है। 

सरकारी नौकरी के नाम पर दिया धोखा

11 सितंबर को स्थानीय विधायक सीएम हेमंत सोरेन के भाई बसंत सोरेन अंकिता के घर पहुंचे थे। उसे नौकरी के लिए नियुक्ति पत्र सौंपा था। नियुक्ति पत्र पाकर परिवार के लोग काफी खुश थे। लेकिन उन्हें जब पता चला की नियुक्ति पत्र एक प्राइवेट कंपनी में जॉब के लिए है तो परिजनों के होश उड़ गए। जिसके बाद नियुक्ति पत्र लौटने अंकिता की बड़ी बहन अन्य परिजनों के साथ डीसी ऑफिस पहुंच गई। अंकिता की बड़ी बहन से बताया की विधायक द्वारा दिए गए नियुक्ति पत्र से वह संतुष्ट नहीं है। 

पेट्रोल से जलाकर अंकिता की हुई थी हत्या

बता दें कि 23 अगस्त को झारखंड में एक सनकी आशिक ने एकतरफा  प्रेम में अंकिता नाम की युवती को जिंदा जला दिया था, जिसमें युवती की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वहीं युवती की मौत की घटना के बाद देश भर हुए बवाल के बाद झारखंड सरकार को मजबूर होकर मृतका के परिवार को दस लाख मुआवजा और एक सरकारी नौकरी देने की घोषणा की थी।


Find Us on Facebook

Trending News