बिल्डरों की कलंक कथा: फ्रॉड में अग्रणी होम्स नंबर-1...'घर लक्ष्मी बिल्डकॉन' भी ग्राहकों से करोड़ों लेकर नहीं दिया फ्लैट, RERA में दर्ज हैं 26 शिकायत, LIST देखें...

बिल्डरों की कलंक कथा: फ्रॉड में अग्रणी होम्स नंबर-1...'घर लक्ष्मी बिल्डकॉन' भी ग्राहकों से करोड़ों लेकर नहीं दिया फ्लैट, RERA में दर्ज हैं 26 शिकायत, LIST देखें...

PATNA: पटना के सबसे बड़े फ्रॉड बिल्डर अग्रणी होम्स के निदेशक आलोक कुमार की अब जाकर गिरफ्तारी हुई है। इस बिल्डर ने पूरे बिहार के हजारों ग्राहकों का फ्लैट देने के नाम पर लगभग 100 करोड़ की ठगी की है। अब पटना पुलिस ने उस ठग को गिरफ्तार किया है। आप उसकी ठगी का इसी से अनुमान लगा सकते हैं कि सिर्फ रेरा में 13019 शिकायत दर्ज है। पुलिस में भी फ्रॉड के कई केस दर्ज हैं. अग्रणी होम्स ग्राहकों से ठगी करने में नंबर-1 पर है। रेरा की लिस्ट के अनुसार अग्रणी के अलावे कई अन्य बिल्डर हैं जिनके खिलाफ सबसे अधिक शिकायत है।साईनसिटी दूसरे नंबर पर तो डीडीएल इंफ्राटेक तीसरे नंबर पर है.पटना के घर लक्ष्मी बिल्डकॉन भी कहीं से कम नहीं . इस कंपनी की भी भारी शिकायत है।ग्राहक पैसे देकर बिल्डर के चक्कर लगा रहे.  घर लक्ष्मी बिल्डकॉन के एमडी राहुल कुमार का एक भी प्रोजेक्ट समय से पूरा नहीं हुआ। रेरा ने इस कंपनी के खिलाफ कई तरह की कर्रवाई भी की है। कई केस में रेरा ने बिल्डर को सूद समेत पैसा वापस करने का भी आदेश दिया है। रेरा के वेबसाईट के अनुसार घर लक्ष्मी बिल्डकॉन के एमडी राहुल कुमार व विकास कुमार ज्योति के खिलाफ अभी भी 26 शिकायतें हैं। 

इन बिल्डरों के खिलाफ सबसे अधिक शिकायत 

रेरा में घर लक्ष्मी बिल्डकॉन के खिलाफ 26 शिकायत

घर लक्ष्मी बिल्डकॉन ने ग्राहकों से लक्ष्मी भी ले लिया और घऱ भी नहीं दिया। बिल्डर राहुल कुमार ग्राहकों से करोड़ों रू लिये लेकिन फ्लैट नहीं दिया। एक नहीं अनकों ऐसे ग्राहक हैं जिनका पैसा लेकर घर लक्ष्मी बिल्डकॉन के निदेशक ने फ्लैट नहीं दिये. वैसे घर लक्ष्मी बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पर 2021 में रेरा का डंडा चला था. रेरा की तरफ से जो जानकारी दी गई है, उसमें घर लक्ष्मी बिल़्कॉन के खिलाफ 26 शिकायतें रेरा में दर्ज है। इन सभी शिकायतों पर सुनवाई चल रही है।कई केस में पैसा लौटाने का आदेश दिय़ा गया है। कंपनी ने कुछ ग्राहकों के पैसे वापस भी किये हैं. 

2021 में दीपावली से पहले ही रेरा ने घर लक्ष्मी के एमडी राहुल कुमार पर शिकंजा कसा था. कंपनी के किसी नए प्रोजेक्ट के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी गई थी. रेरा के आदेश में कहा गया था कि यह स्थिति तब तक रहेगी जब तक घर लक्ष्मी बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड के प्रोजेक्ट घर लक्ष्मी रेसिडेंसी फेज वन के आवंटियों का पूरा पैसा ब्याज सहित वापस नहीं कर देता। इतना ही नहीं  बिल्डर राहुल की कंपनी घर लक्ष्मी के प्रोजेक्ट इनकम टैक्स रेसिडेंसी में फ्लैट की बुकिंग पर भी रोक लगा दी थी. 2022 में रेरा ने इस कंपनी के खिलाफ दर्ज केस की सुनवाई करते हुए कई ग्राहकों का लाखों रू सूद समेत वापस करने का आदेश दिया है। 

एक भी प्रोजेक्ट नहीं हो सका था पूरा

घर लक्ष्मी बिल्डकॉन ने ग्राहकों को बेवकूफ बनाने का कोई कसर नहीं छोड़ा। एक फ्लैट की बुकिंग पर तरह-तरह का प्रलोभन देकर झांसे में लिया। प्रचार के झांसे में कई ग्राहक आ गये और फ्लैट बुक करा लिया. बिल्डर ने 9 प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी दी है। इनमें से 3 प्रोजेक्ट में ग्राहकों से पैसे लेकर फ्लैट नहीं देने की बात सामने आ चुकी है । मामले की सुनवाई के बाद रेरा ने कार्रवाई भी की है। बिल्डर के जिन तीन प्रोजेक्ट में करोड़ों रू लेकर फ्लैट नहीं देने की बात का खुलासा हुआ है उनमें इनकम टैक्स रेसिडेंसी, घऱ लक्ष्मी रेसिडेंसी फेज-1 और सरिता कुंज स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट शामिल है। इन सभी प्रोजेक्ट में बिल्डर ने ग्राहकों से पैसे लेकर तय समय पर फ्लैट नहीं दिया।

सितंबर 2022 में ही रेरा ने घर लक्ष्मी बिल्डकॉन को सूद समेत वापस करने का दिया है आदेश  

पटना के एक ग्राहक शैलेन्द्र कुमार ने घर लक्ष्मी ब्यूल्डकॉन कंपनी के इनकम टैक्स रेसिडेंसी में फ्लैट नं. 504 बुक कराया था। 2018 में बुकिंग के समय 6.75 लाख रू भी दे दिये। बिल्डर की तरफ से कहा गया कि 30 महीने में फ्लैट हैंडओवर कर दिया जायेगा। लेकिन कंपनी ने ऐसा नहीं किया। ग्राहक ने 21 मई 2022 को रेरा में कंपनी के खिलाफ वाद दायर किया। इसके बाद रेरा ने  घर लक्ष्मी ब्यूल्डकॉन कंपनी के निदेशक को सूद समेत पैसा वापस करने को कहा है। रेरा ने 5 सितंबर 2022 के अपने आदेश में कहा है कि ग्राहक से जो पैसे लिये गये थे उसके बुकिंग के समय से MCLR के साथ और अतिरिक्त 3 फीसदी सूद के साथ जोड़कर राशि वापस करें। इसके लिए रेरा ने 60 दिनों का समय दिया है। साथ ही रेरा ने आवेदक से यह भी कहा है कि अन्य राहत के लिए आप से क्लेम कर सकते हैं।  

Find Us on Facebook

Trending News