अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए गया से भेजी गई चांदी की ईट, विहिप की 4 सदस्यीय टीम रवाना

अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए गया से भेजी गई चांदी की ईट, विहिप की 4 सदस्यीय टीम  रवाना

GAYA : अयोध्या में बनने वाले श्री राम मंदिर के निर्माण के लिए गया के फल्गु नदी का बालू, मिट्टी और जल संग्रह का कार्य विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया है. ज्ञात हो कि गया तीर्थ के प्रमुख मंदिरों की मिट्टी व सरोवर के जल को इकट्ठा कर लिया गया है. विशेष पूजन के बाद विश्व हिंदू परिषद का दल सारे सामग्री को लेकर अयोध्या के लिए रवाना हो गया. 

इसके पूर्व विष्णुपद मंदिर में सवा किलो चांदी की ईंट का विशेष पूजन किया गया. विष्णुपद मन्दिर के गर्भगृह में सवा किलो चांदी के ईंट की विशेष पूजा की गई. इसके बाद सारे सामग्री को लेकर विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता अयोध्या के लिए रवाना हो गये. 

अंततः सलिला फल्गु नदी का जल, ब्रह्मसरोवर, वैतरणी सरोवर का जल, फल्गु नदी का बालू, बोधगया महाबोधि मंदिर व शक्तिपीठ माँ मंगलागौरी मंदिर की मिट्टी सहित सारे सामग्रियों को भेजा गया. जिसे 5 अगस्त को अयोध्या में मंदिर के भूमिपूजन कार्य मे सम्मिलित किया जाना है.

इस संबंध में विश्व हिंदू परिषद के सदस्य प्रेमनाथ टाईया ने बताया की सवा करोड़ हिन्दुओं की आस्था जो राम मंदिर था. उसके निर्माण का सपना पूरा हुआ है. अयोध्या में श्री राम मंदिर के निर्माण में हमलोगो ने फल्गु नदी का रेत तथा सवा किलो का चाँदी का ईट भेजने का जो योजना बनाया था. वह भगवान श्री राम के आशीर्वाद से आज पूर्ण हुआ है. अयोध्या में जो भूमि पूजन 5 अगस्त को तय किया गया है. उसमे हमलोग संकल्प लिए थे कि गया के प्रमुख जगहों का मिट्टी और जल भेजेंगे, वह हमलोगो ने आज पूरा किया है. गया के सभी प्रमुख जगहों के जल और मिट्टी को इकठा कर के आज हमलोग अयोध्या भेज रहे है. यह सभी कार्य भगवान श्री नारायण के कृपा से पूरा हुआ है. भगवान श्री राम नारायण के रूप में गया में विराजमान है. फल्गु नदी में माता सीता ने पिंडदान किया था और यही पर राजा दशरथ अपने हाथ में पिंडदान लिए थे. इसलिए यहां के जल और रेत का विशेष महत्व है. 

गया से मनिज कुमार की रिपोर्ट 



Find Us on Facebook

Trending News