विधानसभा सत्र आज से, पहली बार, दूसरी बार या फिर इससे अधिक अंतराल के बाद चुनकर आए सदस्यों के उत्साह का भी सत्र गवाह बनेगा

विधानसभा सत्र आज से, पहली बार, दूसरी बार या फिर इससे अधिक अंतराल के बाद चुनकर आए सदस्यों के उत्साह का भी सत्र गवाह बनेगा

पटना... बिहार में नए जनादेश आने के बाद आज विधानसभा का पहला सत्र है। इस सत्र में लगभग 105 विधायकों का शपथ होगा। प्रोटेम स्पीकर जीतन राम मांझी सभी विधायकों को शपथ दिलाएंगे। 17वीं विधानसभा के पहले सत्र के शुरू हाने से पहले कोविद-19 को लेकर सामाजिक दूरी भी देखने को मिलेगा। कोराेना काल के बीच पांच दिनों तक चलने वाले इस सत्र में कई नई चीजें देखनें को मिल सकती हैं। वहीं पहली बार चुनकर आए, दूसरी बार चुनकर आए और एक या इससे अधिक अंतराल के बाल चुनकर आए सदस्यों के अलग-अलग स्तरों के उत्साह का भी जह सत्र गवाह बनेगा। 

17वीं विधानसभा के पांच दिवसीय सत्र का पहला दो दिन सदस्यों के लिहाज से खासा महत्वपीर्ण होगा जबकि शेष तीन दिन विधायी कार्यों को लेकर बेहद अहम हैं। 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में 43.2 फीसदी अर्थात 105 ऐसे सदस्य आए हैं जो पहली बार विधानसभा की सदस्यता की शपथ लेंगे। पिछली विधानसभा के भी सदस्य रहे 98 यानी कि 40.3 फीसदी सदस्य इस विधानसभा में भी दोबारा जीतकर आए हैं। वहीं 40 (16.46) ऐसे सदस्य भी 23 और 24 नवम्बर के बीच सदस्यता लेंगे जो अंतराल (ब्रेक) के बाद जीतकर फिर से बिहार विधानसभा पहुंचे हैं। सत्र को लेकर सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था हुई है। 

सामाजिक दूरी बरतने के लिहाज से सदस्यों का बारी-बारी से शपथ होगा। सबसे पहले उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, फिर रेणु देवी का शपथ होगा। उसके बाद मंत्री विजय चौधरी, बिजेन्द्र यादव, शीला कुमारी, अमरेन्द्र प्रताप सिंह, डा. रामप्रीत पासवान, जीवेश मिश्रा, रामसूरत राय क्रमश शपथ लेंगे। फिर सदस्यों की बारी आएगी। प्रोटेम स्पीकर जीतनराम मांझी सदस्यों को शपथ दिलायेंगे जबकि उनके नाम विधानसभा के सचिव पुकारेंगे। विस क्षेत्र 1 वाल्मीकिगर से संख्यावार सदस्यों को शपथ दिलायी जाएगी। 

निर्वाचित सदस्यों को पांच भाषाओं हिन्दी, अंग्रेजी, मैथिली, उर्दू और संस्कृत में से किसी भी एक भाषा में शपथ लेने की छूट रहेगी। विस सचिवालय ने सभी पांच भाषाओं में शपथ के लिए स्क्रिप्ट तैयार कराया है। जानकारी के मुताबिक हिन्दी और मैथिली के स्क्रिप्ट की अधिक मांग है।  

संसदीय मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि यह स्वागत सत्र है। नए जनादेश के पहले सत्र के सफल संचालन में सबों का सहयोग चाहिए। मुद्दों को रखने के लिए आगे भी समय मिलेगा। सत्र के दौरान कोविद-19 को देखते हुए सामाजिक दूरी का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। 


Find Us on Facebook

Trending News