विद्या बालन बनी शकुंतला देवी ,जानिए शकुंतला देवी से जुड़ी 5 खास बातें

विद्या बालन बनी शकुंतला देवी ,जानिए शकुंतला देवी से जुड़ी 5 खास बातें

DESK : बॉलीवुड एक्ट्रेस विद्या बालन एक बेहतरीन अदाकारा हैं और हमेशा ही कुछ नया करने की कोशिश करती है और एक बार फिर बंगाली बाला नए किरदार के साथ दर्शकों के सामने आ रहीं हैं. इस बार वो फिल्म शकुंतला देवी में मुख्य किरदार निभा रही हैं. शकुंतला देवी यानी वो भारतीय गणितज्ञ जिन्हें दुनियाभर में मानव कंप्यूटर के नाम से जाना गया.  इस फिल्म का निर्देशन अनु मेनन ने किया है और फिल्म का ट्रेलर  भी रिलीज हो गया है. कोरोनी की वजह से फिल्म ऑनलाइन प्लेटफॉर्म अमेजॉन प्राइम  पर 31 जुलाई को रिलीज की जा रही है, आइए हम आपको शकुंतला देवी की जिंदगी की कुछ खास बातों से रूबरू कराते हैं.

1. बेंगलुरु में पैदा हुईं शकुंतला देवी ने कभी औपचारिक शिक्षा नहीं ली और लगन के साथ अभ्यास करते-करते गणितज्ञ बन गईं. उन्होंने शुरुआती सबक अपने दादा से सीखे और महज छह साल की उम्र में मैसूर की यूनिवर्सिटी में अपनी अर्थमैटिक योग्यता का प्रदर्शन किया.

2. शकुंतला देवी ने कई मौकों पर दुनिया के सबसे नायाब कंप्यूटर्स को मात दी और साल 1982 में अपना नाम गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराया. इससे पहले, 18 जून 1980 को शकुंतला देवी ने 13 अंकीय दो संख्याओं 7,686,369,774,870 तथा 2,465,099,745,779’ का गुणा मानसिक रूप से करके अपनी प्रतिभा साबित कर दी, इसके लिए इन्हें लंदन के इंपीरियल कॉलेज के कंप्यूटर विभाग में चयनित किया गया था. उन्होंने केवल 28 सेकेंड में इसका सही उत्तर 18,947,668,177,995,426,462,773,730 दे दिया था.

3. जनवरी 1977 में, दक्षिणी मेथोडिस्ट यूनिवर्सिटी, डलास, टेक्सास में शकुंतला देवी ने केवल 50 सेकेंड में संख्या 201 की 23वीं घात/रूट (20123) का सही उत्तर ‘546372891’ निकालकर सबके होश उड़ा दिए. उन्होंने 13,000 निर्देशों वाले उस समय के सबसे तेज कंप्यूटर ‘यूनिवेक’ को भी अपने कौशल से मात दी थी, जिसने यह गणना करने में 62 सेकेंड का समय लगाया था.

4. भारत में होमोसेक्सुएलिटी पर पढ़ाई का श्रेय भी शकुंतला देवी को जाता है. अपने पति की सेक्सुअल प्राथमिकताओं का अहसास होने पर उन्होंने द वर्ल्ड आफ होमोसेक्सुअल्स नाम से किताब भी लिखी थी. शकुंतला देवी और उनके पति साल 1979 में एक-दूसरे से अलग हो गए थे.

5. शकुंतला देवी ने 1980 में दक्षिण मुंबई से स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर लोकसभा चुनाव भी लड़ा था. वह तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के खिलाफ मेडक से खड़ी हुई थीं. शकुंतला देवी ने तब कहा था कि वह लोगों को इंदिरा गांधी द्वारा बेवकूफ बनाए जाने से बचाना चाहती हैं.

1929 में बेंगलुरु में जन्मीं शकुंतला देवी का 2013 में 83 साल की उम्र में किडनी और दिल संबंधी बीमारी की वजह से निधन हो गया.

Find Us on Facebook

Trending News