बिग ब्रेकिंगः पटना में PM मोदी के कार्यक्रम से पहले 'आतंकी' गतिविधि में शामिल 2 संदिग्ध गिरफ्तार,पाकिस्तान से पैसे के ट्रांजेक्शन के मिले सबूत, गांधी मैदान बम ब्लास्ट से भी जुड़े तार

बिग ब्रेकिंगः पटना में PM मोदी के कार्यक्रम से पहले 'आतंकी' गतिविधि में शामिल 2 संदिग्ध गिरफ्तार,पाकिस्तान से पैसे के ट्रांजेक्शन के मिले सबूत, गांधी मैदान बम ब्लास्ट से भी जुड़े तार

PATNA: पीएम मोदी के पटना आगमन के दौरान राजधानी को दहलाने की साजिश को पटना पुलिस ने नाकाम कर दिया है। आतंकी गतिविधि में शामिल दो संदिग्धों को पटना पुलिस ने धर दबोचा है। दोनों के पास से कई संदिग्ध दस्तावेज व विदेश से पैसा आने का सबूत मिला है। 

पटना पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। 12 तारीख को पटना में प्रधानमंत्री का कार्यक्रम था। इसके ठीक पहले पटना पुलिस ने बड़ी साजिश को नाकाम किया है। पुलिस ने फुलवारीशरीफ के नयाटोला से आतंकी गतिविधि में शामिल दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उनके पास से कई विदेशी दस्तावेज जप्त किए हैं जो प्रतिबंधित है। यह भी बताया जा रहा है कि गिरफ्तार दोनों सदिग्धों के तार कई देशों से जुड़ा है। फुलवारीशरीफ के एएसपी मनीष कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर यह जानकारी दी है। 

एएसपी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि फुलवारी शरीफ के नया टोला स्थित अहमद पैलेस में मोहम्मद जलालुद्दीन जो झारखंड पुलिस का सेवानिवृत्त सब इंस्पेक्टर हैं एवं अतहर प्ररवेज मिलकर संगठन चला रहे.ये लोग संगठन के माध्यम से समाज के अशिक्षित एवं गुमराह छात्रों को अपने संपर्क में लाकर उन्हें आतंकी गतिविधि की प्रशिक्षण देते थे। पुलिस से बचने के लिए दोनों संदिग्ध आतंकी पीएसआई एवं एसडीपीआई पार्टी के झंडे तले इस कार्य को किया करते थे। एएसपी मनीष कुमार ने बताया कि फुलवारी शरीफ के नया टोला में यह दोनों एक किराए की मकान में रहकर गुमराह छात्रों को मार्शल आर्ट एवं शारीरिक शिक्षा के नाम पर देश विरोधी अस्त्र-शस्त्र की ट्रेनिंग देते थे। इसके अलावा धार्मिक उन्माद फैलाने और आतंकवादी गतिविधि कार्य करने की बात भी उन छात्रों के दिलों दिमाग पर भरने का काम किया करते थे।

जानकारी के अनुसार, अतहर परवेज पूर्व से सिमी के कार्यकर्ता रहा है। साथ ही आतंकी गतिविधि में इसकी संलिप्तता प्रकाश में आई है। यह भी बताया जा रहा है कि पटना के गांधी मैदान में बम ब्लास्ट में गिरफ्तार आतंकवादियों के लिए बेलर का भी इसी ने किया था। पुलिस इनके पाकिस्तान सहित कई देशों से तार जुड़े होने की जांच भी कर रही है। पुलिस का कहना है कि यहां केरल, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश ,तमिल नाडु सहित कई राज्यों से छात्र प्रशिक्षण के लिए आ रहे थे। पुलिस का कहना है कि पैसे की व्यवस्था पाकिस्तान सहित अन्य देशों से मिलती थी। पुलिस को इनके पास से  करीब 75 लाख रुपए के ट्रांजैक्शन के भी प्रमाण मिले हैं.

Find Us on Facebook

Trending News