बिना कार्य कराए बाढ़ से तटबंधों की सुरक्षा के नाम पर कर ली 50 लाख की निकासी, सहायक अभियंता के खिलाफ मुख्य सचिव से की शिकायत

बिना कार्य कराए बाढ़ से तटबंधों की सुरक्षा के नाम पर कर ली 50 लाख की निकासी, सहायक अभियंता के खिलाफ मुख्य सचिव से की शिकायत

BAGHA : बड़ी खबर बगहा से सामने आई है, जहां के पिपरा पिपरासी तटबंध के सहायक अभियंता पर वहीं के एक व्यक्ति ने पिपरासी से मधुबनी तक कराए गए बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य में भारी गबन करने का आरोप लगाया है। आरोप है गांव में बाढ़ से तटबंध की सुरक्षा के नाम पर 50 लाख की फर्जी निकासी की गई है, जबकि यहां तटबंधों पर नदी का दबाव तक नहीं है और न ही यहां कोई कार्य कराया गया है। अब धनहा थाना क्षेत्र के सिताब दियर निवासी मनेजर नुनिया ने जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव, अभियंता प्रमुख, मुख्य अभियंता बाढ़ नियंत्रण एवं जल निस्तारण गोपालगंज व अधीक्षण अभियंता बाढ़ नियंत्रण अंचल पडरौना को देते हुए बाढ़ नियंत्रण डिवीजन दो के सहायक अभियंता गौतम कुमार पर पचास लाख रुपए का गबन करने का आरोप लगाया है। 

प्रधान सचिव को भेजे गए पत्र में मैनेजर नुनिया ने लिखा है कि सहायक अभियंता गौतम कुमार अवर प्रमंडल पिपरासी व मधुबनी के द्वारा फर्जी बाढ़ संघर्षात्मक कार्य दिखाकर अपने रिश्तेदार व चहेतों के नाम पर 15 जुलाई 2021 तक करीब 50 लाख रुपए का फर्जी कार्य कराने का रिपोर्ट किया है। जबकि मधुबनी से पिपरासी तक नदी बांध से दो से तीन किलोमीटर की दूरी पर बहता है। एक संवेदक नीरज कुमार के नाम पर 15-6-2021 से लेकर 30-6- 2021 तक अठारह लाख रुपए का फर्जी कार्य करने का रिपोर्ट किया गया है जो इनके रिश्तेदार या मित्र हैं। ऐसे कई नाम और हैं जिनके नाम पर फर्जी कार्य करके रिपोर्ट इनके द्वारा किया गया है। म


नेजर ने अधिकारियों को भेजे गए पत्र में जानकारी दिया है कि मधुबनी से लेकर पिपरासी तक नदी का दबाव पीपी तटबंध पर नहीं है। फिर भी सहायक अभियंता गौतम कुमार के चहेतों द्वारा रेनकट व होल के नाम पर लाखों रुपए का दिखाया गया है। जो पूर्णतः फर्जी है। अगर इसकी जांच कराई जाती है तो एक बहुत बड़ा घोटाला सामने आएगा। मैनेजर ने अपने आवेदन में लिखा है कि सहायक अभियंता गौतम कुमार के द्वारा ₹2 प्रति बोरी लेकर संवेदकोे को दिया जाता है। 

उनके अनुसार सहायक अभियंता के खिलाफ कई बार स्थानीय समाचार पत्रों में इनके द्वारा की गई अनियमितता की खबर छपी है। फिर भी विभाग के द्वारा इनके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं की गई है जो खेद का विषय है। मैनेजर द्वारा जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव से इसकी जांच स्वयं करने का अनुरोध किया गया है साथ ही जांच कर दोषी सहायक अभियंता पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है। इस संबंध में सहायक अभियंता गौतम कुमार ने बताया कि उनके उपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद है। बेवजह दोषारोपण कर उन्हें परेशान करने की बात कहते हुए उहोंने एक साजिश करार दिया है।

Find Us on Facebook

Trending News