रेड जोन घोषित गंगा दियारा में अवैध मिट्टी खनन पर प्रशासन रोक लगाने में नाकाम, आधा दर्जन गांव के अस्तित्व पर संकट

रेड जोन घोषित गंगा दियारा में अवैध मिट्टी खनन पर प्रशासन रोक लगाने में नाकाम, आधा दर्जन गांव के अस्तित्व पर संकट

KATIHAR : कटिहार में गंगा दियारा क्षेत्र में  मिट्टी माफियाओं के आतंक ने परेशानी  बढ़ा दिया है। यहां मिट्टी के अवैध खनन से न सिर्फ बाढ़ ग्रस्त इलाकों में पानी घुसने का खतरा मंडरा रहा है, बल्कि  आधा दर्जन के करीब गांव के अस्तित्व पर ही खतरा मंडराने लगा है। बताया जा रहा है दियारा क्षेत्र में लगातार हो रहे मिट्टी खनन को बड़े लोगों का सरंक्षण हासिल है, जिसके कारण प्रशासन भी इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर पा रही है। वहीं लगातार मिट्टी कटाव के कारण यहां रहनेवाले लोगों के सामने अपना जीवन गुजर बसर कैसे करेंगे, इस बात की चिंता सताने लगी है। कुछ लोग दहशत में गांव छोड़कर पलायन कर चुके हैं।

 बताते चलें मनिहारी अनुमंडल के दिलारपुर,हटखोला धर्मपुर गांव में पिछले साल ही लगभग सौ घर के अलावे मस्जिद सहित आंगनवाड़ी गंगा में समां चुका है। धीरे धीरे दियारे की जमीन कम होती जा रही है। यहां के लोगों का कहना है उन्हें दोहरी मार का सामना करना पड़ रहा है। जहां हर साल नदी के बाढ़ के कारण कटाव का सामना करना पड़ता है, वहीं दूसरी तरफ मिट्टी खनन से जुड़े माफिया अंधाधुन तरीके से अधिकारियों से मिलीभगत से इन इलाकों में अवैध मिट्टी खनन का खेल बदस्तूर जारी है।

बाढ़ के कारण पहले से रेड जोन है घोषित

 पूर्व विधायक नीरज यादव कहते हैं कि यह बड़ा रैकेट है कटिहार के यह इलाका बाढ़ के रेड जोन है मगर फिर भी स्थानीय अधिकारियों के साथ सांठगांठ करते हुए गंगा तट से मिट्टी कटाई का है यह अवैध खेल जारी है, जिससे बाढ़ का खतरा और विकराल होने की संभावना है, वहीं अब मिट्टी के अवैध कटाई पर जिला खनन पदाधिकारी के प्रभार में जिम्मेदारी संभालने वाले उप समाहर्ता अनिमेष कुमार कहते हैं कि निश्चित तौर पर यह गंभीर विषय है और वह स्थानीय अधिकारी को इसकी सूचना देकर जल्द अवैध खनन रोकने के साथ-साथ कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।

Find Us on Facebook

Trending News