तेजस्वी यादव के हो गए बाहुबली अनंत सिंह, जेल में रहकर छोटे सरकार मोकामा में करेंगे दंगल

तेजस्वी यादव के हो गए बाहुबली अनंत सिंह, जेल में रहकर छोटे सरकार मोकामा में करेंगे दंगल

PATNA : बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर अब चुनावी अखाड़ा पूरी तरह तैयार हो चुका है. पहले फेज के लिए लगभग सभी उम्मीदवारों का चयन कर लिया गया है इसके साथ ही उन्हें चुनावी मैदान में उतरने का भी इशारा कर दिया गया है. लेकिन इस बीच बाहुबली अनंत सिंह को लेकर पेच फंसा हुआ था कि आखिर इस बार चुनावी मैदान में किसका झंड़ा बुलंद करेंगे. इतना तो तय था कि छोटे सरकार मोकामा से अपनी उम्मीदवारी की ताल ठोकेंगे लेकिन अब यह क्लीयर हो गया है कि अनंत सिंह राजद के टिकट पर मोकामा के चुनावी संग्राम में उतरेंगे.

तेजस्वी ने दिया अनंत सिंह का साथ
खबर के मुताबिक अनंत सिंह को राजद ने टिकट दे दिया है. तेजस्वी ने अनंत सिंह पर भरोसा किया है. हालांकि कि इसके संकेत अनंत सिंह ने पहले ही दे दिया था. कोर्ट में पेशी के दौरान अनंत सिंह यह कह चुके हैं कि वो इस बार तेजस्वी को सीएम बनाएंगे. अनंत सिंह के इस बयान से ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि वो इस बार तेजस्वी के हाथ को मजबूत करेंगे. लेकिन अनंत सिंह को टिकट राजद से मिलेगा या कांग्रेस से इसको लेकर संशय के हालत बने हुए थे. लेकिन अब जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक राजद ने अनंत सिंह को सिंबल दे दिया है और वो एक बार फिर से जेल के अंदर से ही मोकामा सीट से अपनी ताल ठोकेंगे. बताया जाता है कि अनंत सिंह बुधवार को नामांकन करेंगे.

अनंत के सामने क्या टिक पाएंगे JDU वाले राजीव लोचन
हरि अनंत, हरि कथा अनंता वाले अनंत सिंह मोकामा से लगातार चुनाव जीतते रहे हैं. कोई पार्टी टिकट दे तो ठीक और नहीं भी दे तो भी ठीक. अनंत सिंह का मोकामा में क्या पकड़ है उन्होंने 2015 के चुनाव में दिखा दिया था.  जेल में बंद होने के बाद 2015 का चुनाव अनंत ने निर्दलीय होते हुए भी आसानी से जीत लिया था. इस बार अनुमान लगाया जा रहा था कि अनंत के खिलाफ जदयू कोई मजबूत उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारेगा लेकिन जिस उम्मीदवार को मोकामा से टिकट दिया गया है उनकी छवि तो साफ सुथरी है लेकिन बड़ा सवाल समाने यह है कि क्या जदयू का यह प्रत्याशी अनंत सिंह के सामने चुनावी अखाड़े में टिक पाएगा या फिर चारों खाने चित होगा. सूत्रों की माने तो तो जदयू का स्थानीय खेमा भी उस उम्मीदवार को पचाने के मूड में नहीं है. गौरतलब है कि नीतीश कुमार इस बार के चुनाव में अपराधिक छवि के लोगों को टिकट नहीं देने का ऐलान किया है.इसी रणनीति के तहत बीजेपी के राजीव लोचन को जदयू का टिकट थमा दिया गया है. अब देखना होगा कि राजीव लोचन ऊर्फ अशोक नारायण जदयू को मोकामा को जीत की टिकट थमा पाते हैं या नहीं.

Find Us on Facebook

Trending News