अर्जेंटीना के 36 साल का इंतजार हुआ खत्म, सांस रोक देनेवाले रोमांचक मुकाबले में फ्रांस को हराकर अर्जेंटीना बना फुटबॉल विश्व कप का चैंपियन, मेसी के करियर को मिली शानदार विदाई

अर्जेंटीना के 36 साल का इंतजार हुआ खत्म, सांस रोक देनेवाले रोमांचक मुकाबले में फ्रांस को हराकर अर्जेंटीना बना फुटबॉल विश्व कप का चैंपियन, मेसी के करियर को मिली शानदार विदाई

DESK : अर्जेंटीना का 36 साल का इंतजार खत्म हो गया। बीती रात कतर में हुए फीफा विश्व कप के फाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना ने फ्रांस को हराकर चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया। दर्शकों से खचाखचा भरे मैच में एक फाइनल मुकाबले में रोमांच कर हर क्षण देखने को मिला। मैच का फैसला होने तक यह कहना मुश्किल था कि विश्व कप का विजेता कौन होगा। लेकिन अंत में फैसला पेनाल्टी  शूट आउट से हुआ और इसमें अर्जेंटीन की टीम फ्रांस पर भारी पड़ी और उन्होंने 4-2 से शूट आउट को जीत लिया। इसके साथ ही अर्जेंटीना के खिलाड़ियों और फैन्स के बीच सेलिब्रेशन शुरू हो गया।

करियर के आखिरी मैच में सबसे बड़ा सपना पूरा किया मेसी ने

लियोनल मेसी का वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना पूरा हो गया।  अर्जेंटीना ने 36 साल बाद वर्ल्ड कप जीता है। इससे पहले उसे 1986 में खिताबी कामयाबी मिली थी। अर्जेंटीना का यह ओवरऑल तीसरा खिताब है। टीम 1978 में पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनी थी। वहीं, फ्रांस का लगातार दूसरी बार वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना अधूरा रहा गया। टीम 2018 में चैंपियन बनी थी। फ्रांस दूसरी बार वर्ल्ड कप के फाइनल में पेनल्टी शूटआउट में हारा है। इससे पहले उसे 2006 में इटली के खिलाफ फाइनल मुकाबले में पेनल्टी शूटआउट में हार मिली थी। इसके साथ ही मेसी ने फुटबॉल के मैदान में खेला गया अंतिम मैच यादगार बन गया।

इससे पहले अर्जेंटीना ने रविवार को खेले गए फीफा वर्ल्ड कप फाइनल में फ्रांस को पेनल्टी शूट आउट में 4-2 से हरा दिया। तय 90 मिनट तक दोनों टीमें 2-2 की बराबरी पर रही थी। एक्स्ट्रा टाइम के बाद मुकाबला 3-3 की बराबरी पर रहा था। इसके बाद पेनल्टी शूटआउट से फैसला हुआ। फाइनल में मेसी ने दो गोल किए। वहीं, फ्रांस के लिए किलियन एमबाप्पे ने हैट्रिक जमाई।

पहले हाफ में अर्जेंटीना रहा हावी

अर्जेंटीना ने फर्स्ट हाफ में फ्रांस पर पूरी तरह दबाव बनाए रखा। टीम ने फ्रांस को गोल की तरफ शॉट मारने का एक भी मौका नहीं दिया। जबकि, अर्जेंटीना ने फर्स्ट हाफ में गोल की तरफ 6 शॉट मार दिए। इनमें से 2 शॉट पर गोल भी आए। अर्जेंटीना ने 60% समय बॉल पजेशन रखा। उन्होंने फर्स्ट हाफ में 2 कॉर्नर लिए, लेकिन फ्रांस को एक भी कॉर्नर नहीं लेने दिया।

दूसरा हाफ आया तो फ्रांस ने कुछ दम दिखाया और असली जादू बिखेरा किलियन एम्बाप्पे ने, जिन्होंने 90 सेकंड के अंतर पर ही दो गोल दाग दिए और अपनी टीम को मैच में बराबरी पर पहुंचाया. एम्बाप्पे ने 80वें और 81वें मिनट में गोल दागा. 

90 मिनट और एक्स्ट्रा के 7 मिनट खत्म हुए तो स्कोर 2-2 की बराबरी पर छूटा. ऐसे में 15-15 मिनट का एक्स्ट्रा टाइम दिया गया. यहां अर्जेंटीना के लिए लियोनेल मेसी ने 108वें मिनट में और किलियन एम्बाप्पे ने 118वें मिनट में फ्रांस के लिए गोल दागा. यानी एक्स्ट्रा टाइम में भी 3-3 पर मैच बराबरी पर रहा और फिर पेनल्टी शूटआउट में मैच गया. 

पेनाल्टी शूट आउट का रोमांच

1-0 : फ्रांस के कीलियन एम्बाप्पे ने लेफ्ट कॉर्नर में गोल दागा।

1-1 : अर्जेंटीना के लियोनल मेसी ने लेफ्ट साइड पर गोल दागा।

1-1 : फ्रांस के किंग्स्ले कॉमान का शॉट अर्जेंटीना के गोलकीपर ने मार्टीनेज ने रोक लिया।

2-1 : अर्जेंटीना के पाउलो डीबाला ने गोल दागा।

2-1 : फ्रांस के औरेलियन चौमेनी पेनल्टी मिस कर गए।

3-1 : अर्जेंटीना के लीएंड्रो पेरेडेस ने गोल दागा।

3-2 : फ्रांस के रांडल कोलो मुआनी ने गोल दागा।

4-2 : अर्जेंटीना के गोंजालो मोंटिएल ने गोल दागकर अर्जेंटीना को 36 साल बाद फीफा वर्ल्ड कप का चैंपियन बना दिया।


Find Us on Facebook

Trending News