आराम तलब मंत्री जीः कलाकार सम्मानित होते रहे और मंत्री मंगल पांडेय 'कुर्सी' पर डटे रहे,आर्टिस्ट बोले-इसे सम्मान कहेंगे या अपमान ?

आराम तलब मंत्री जीः कलाकार सम्मानित होते रहे और मंत्री मंगल पांडेय 'कुर्सी' पर डटे रहे,आर्टिस्ट बोले-इसे सम्मान कहेंगे या अपमान ?

PATNA: बिहार के कलाकारों को सरकार की तरफ से आज सम्मानित किया गया। कला एवं संस्कृति विभाग की तरफ से आज ज्ञान भवन में बिहार कला पुरस्कार सह सम्मान समारोह आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में कुल 37 कलाकारों को सम्मानित किया जाना था। सम्मान कार्यक्रम में विभाग के मंत्री मंगल पांडेय और प्रधान सचिव भी मौजूद थे। लेकिन जो कलाकर सम्मान मिलने के बुलावे पर ज्ञान भवन पहुंचे थे उन्हें तो यहां आकर असम्मान का भाव दिखा। कई कलाकारों ने कहा कि हमें सम्मानित किया गया या फिर अपमान यह बात तो समझ में ही नहीं आई।

जानिए पूरा माजरा... 

कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग द्वारा आज ज्ञान भवन में बिहार कला पुरस्‍कार/ सम्‍मान समारोह का आयोजन किया गया था। इस समारोह में मंगल पांडेय,मंत्री कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग और रवि परमार, प्रधान सचिव के अलावे कई अन्य अधिकारी मौजूद थे।कार्यक्रम की शुरूआत भी हुई। मंत्री जी ने बिहार सरकार के कामों का बखान भी किया। इसके बाद कलाकरों को सम्मानित करने का समय आया। मंत्री मंगल पांडेय ने शुरूआत में इक्के-दुक्के कलाकारों को सम्मानित भी किया। इसके बाद आराम-तलब मंत्री जी अपनी कुर्सी पर बैठ गए। इसके बाद प्रधान सचिव रवि परमार मंच पर आये कलाकारों को सम्मानित करते रहे।सम्मान कार्यक्रम के दौरान मंत्री जी अपनी कुर्सी पर बैठ कर आराम करते रहे,वे कुर्सी से उठने की भी जहमत नहीं उठाई। मंच पर मंत्री जी अकेले कुर्सी पर बैठे रहे और बगल में अधिकारी कलाकारों को सम्मानित करते रहे।

कलाकार बोले-इसे सम्मान कहेंगे या अपमान ?

कार्यक्रम में आये कई कलाकारों ने कहा कि हमलोग मंत्री जी के हाथों सम्मानित होने आये थे,यहां तो मंत्री जी कुर्सी छोड़ने को भी तैयार नहीं हुए। हमलोगों को अधिकारियों ने सम्मानित किया और मंत्री अपनी कुर्सी पर बैठे रहे। अब इसे सम्मान कहेंगे या अपमान ये तो वही लोग जानें।  



Find Us on Facebook

Trending News