सत्ता से बेदखल होते ही संजय जयसवाल हो गए राजनीतिक दिवालियापन के शिकार, जदयू के अभिषेक झा का करारा तंज

सत्ता से बेदखल होते ही संजय जयसवाल हो गए राजनीतिक दिवालियापन के शिकार, जदयू के अभिषेक झा का करारा तंज

पटना. जदयू ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार पर सवाल उठाना भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल के राजनीतिक दिवालियापन को दर्शाता है. जदयू प्रवक्ता अभिषेक झा ने रविवार को कहा कि जब से बिहार में भाजपा सत्ता से बेदखल हुई है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल राजनीतिक रूप से दिवालिया हो चुके हैं और कुछ भी बयान देते हैं। जनता दरबार पर सवाल उठाने से पहले संजय जयसवाल को यह ज्ञात होना चाहिए कि देश के स्तर पर जनता दरबार का मॉडल पहली बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्थापित किया। 

जनता से सीधा संवाद किया, उनकी समस्याएं सुनी और समस्याओं का निराकरण किया। यही कारण है कि नीतीश कुमार जनता के बीच इतने लोकप्रिय हैं और इतने लंबे समय से मुख्यमंत्री हैं। इस बात से भी भाजपा के नेताओं के पेट में दर्द होता है। जनता दरबार के विरुद्ध बोलकर उन्होंने अपनी जनता विरोधी मानसिकता को दर्शाया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के लोगों के लिए यह खुली चुनौती है कि वे लोग अपने एक भी मुख्यमंत्री का नाम बताएं जो हमारे मुख्यमंत्री से प्रतिस्पर्धा कर सकते हो। संजय जयसवाल डर की और जंगलराज की बात करते हैं। उनको अपना समय याद करना चाहिए जब भाजपा से टिकट नहीं मिला और वे राजद में चले गए। प्रखंड अध्यक्ष रहे और राजद के टिकट पर चुनाव लड़े। करीब 5000 वोट लाकर अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए। अपने इतिहास को भले यह भूल जाए लेकिन बिहार की जनता इनके असली चेहरे को पहचानती है।


Find Us on Facebook

Trending News