फर्जी जाति प्रमाण पत्र जमा कर बनी थी बीडीसी, जांच के बाद खत्म हो गई सदस्यता, हो गया बड़ा बवाल

फर्जी जाति प्रमाण पत्र जमा कर बनी थी बीडीसी, जांच के बाद खत्म हो गई सदस्यता, हो गया बड़ा बवाल

SASARAM : खबर सासाराम से है। सासाराम सदर प्रखंड के नहौना पंचायत की पंचायत समिति सदस्य रूपा कुमारी के जाति प्रमाण पत्र को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। ऐसे में पंचायत के कुछ लोगों ने उनके निर्वाचन पर ही सवाल खड़े किए हैं। जिसको लेकर रूपा कुमारी के तथाकथित मायका नोखा प्रखंड के छितौना पंचायत के डुमरा गांव से बनी जाति प्रमाण पत्र को नोखा के अंचलाधिकारी ने रद्द कर दिया है। 

जिसके बाद विवाद गहरा गया, वही निर्वाचित पंचायत समिति सदस्य रूपा कुमारी ने जिस डुमरा गांव को अपना मायका बताते हुए जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया था; उस गांव के लोगों तथा परिजन का कहना है कि रूपा नोखा के छितौना पंचायत के डुमरा गांव के ही रहने वाली है, यहाँ रूपा का मायका हैं।  चुकी भूमिहीन होने के कारण उनके माता-पिता रोजगार के सिलसिले में पिछले कई दशक से झारखंड में एक रिश्तेदार के रहा रहे हैं। जबकि उनका तमाम रिश्तेदार अभी भी छितौना में ही है। 

इस संबंध में नोखा के अंचलाधिकारी कैमरे के सामने कुछ भी कहने से बच रहे हैं, लेकिन बताया गया कि जाति प्रमाण पत्र रद्द करने से पूर्व संबंधित जनप्रतिनिधि को तीन बार नोटिस जारी किया गया। जिसका कोई जवाब नहीं मिलने पर ही कार्रवाई की गई। ऐसे में BDC रूपा कुमारी के निर्वाचन को ही चुनौती दी गई हैं। उधर रूपा कुमारी इस पूरे मामले को लेकर उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।


Find Us on Facebook

Trending News