बिहार में बे मौसम बारिश ने उड़ाए किसानों के होश

बिहार में बे मौसम बारिश ने उड़ाए किसानों के होश

न्यूज़ 4 नेशन डेस्क : बिहार में बेमौसम बारिश ने किसानों के चेहरे पर परेशानियां ला दी है. बिहार के मोकामा टाल के किसान भी बेवक्त की इस बारिश से काफी परेशान हो चुके हैं. फतुहा से बड़हिया तक फैले मोकामा टाल के किसान दलहन फसलों की खेती पर आश्रित हैं. गुरुवार की रात से बारिश होने से चिंतित किसानों ने शुक्रवार को अपने खेत में लगी फसलों का मुआयना किया। अभी कोई ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है पर बारिश ज्यादा हुई तो किसानों को नुकसान होना तय है.

इस संबंध में किसान ने बताया कि 6 साल पहले भी इसी तरह की बेवक्त की बारिश ने किसानों को बड़ा नुकसान दिया था. बेवक्त की बारिश होने से रस्टिंग की समस्या पैदा होती है. दरअसल फसल पकने के कगार पर है. मसूर चना तथा दूसरी दलहनी फसलें पकनी शुरू हो गई है. यदि अब बारिश होगी तो फसल में लगे पौधे और दाने नीचे गिर जाएंगे, जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा।

बेवक्त की बारिश तथा हवा के तेज झोंकों के कारण जब पौधों में लगे फसल के दाने झड़कर नीचे गिरते हैं तो उसे रस्टिंग कहा जाता है। रस्टिंग का कोई उपचार भी नहीं है और इसे रोका भी नहीं जा सकता है. किसानों के सामने सबसे बड़ी परेशानी यही है कि यदि लगातार बारिश होगी तो फसल पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। दाल का कटोरा कहे जाने वाले मोकामा टाल के किसान दलहनी फसलों की खेती पर ही आश्रित होते हैं। 60, 000 से अधिक हेक्टेयर में फैले मोकामा टाल की 80 फ़ीसदी से अधिक जमीन पर किसान सिर्फ दलहनी फसलों की खेती ही करते हैं और यदि इस फसल को भी नुकसान हुआ तो किसानों के लिए यह बड़ा संकट साबित होगा।


Find Us on Facebook

Trending News