ललन सिंह के दो दांत...खाने के अलग और दिखाने के अलग ! BJP ने JDU राष्ट्रीय अध्यक्ष को दी चुनौती...हिम्मत है तो घोषित करें अतिपिछड़ा CM उम्मीदवार

ललन सिंह के दो दांत...खाने के अलग और दिखाने के अलग ! BJP ने JDU राष्ट्रीय अध्यक्ष को दी चुनौती...हिम्मत है तो घोषित करें अतिपिछड़ा CM उम्मीदवार

PATNA : ललन सिंह भले जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए हैं। लेकिन, तथ्यों और सच्चाई से वह बिल्कुल अलग हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के मुजफ्फरपुर भाषण के बाद ललन सिंह ने जो काउंटर किया। वह पूरी तरह से हास्यास्पद है। जो उन्होंने आंकड़े गिनाए हैं, उसमें उन्होंने कहा है कि 2006 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 20% आरक्षण अति पिछड़ों को पंचायत में दिया, 2007 में नीतीश कुमार ने नगर निकाय में आरक्षण दिया। महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया। 2013 में पुलिस में 33% महिलाओं को आरक्षण दिया। 

उन्होंने कहा की ललन सिंह यह बताएं कि क्या अकेले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में कभी सरकार चलाई है क्या?  2005 से लेकर 2013 तक बिहार में भाजपा की भी सरकार थी और जो मुख्यमंत्री फैसला ले रहे थे। उसमें बीजेपी की भी सहमति थी। भाजपा भी उन फैसलों में बराबर की हिस्सेदार है। 

भाजपा प्रवक्ता मनोज शर्मा ने कहा कि ललन सिंह, राजनीति को हल्के तरीके से मत लीजिए। यदि आज आप अति पिछड़ों के बड़े हिमायती हैं तो सार्वजनिक तौर पर घोषणा कीजिए कि महागठबंधन की तरफ से अति पिछड़ा समुदाय से अगला मुख्यमंत्री होगा। आप यह घोषणा करने की हिम्मत नहीं रखेंगे! क्योंकि आप और आपके आका नीतीश कुमार लालू यादव की चरण वंदना में लग चुके हैं। जिसमें अगले मुख्यमंत्री का दावेदार तेजस्वी यादव है। उसके बाद राज्यसभा, विधान परिषद, उपमुख्यमंत्री, विधानसभा विपक्ष के नेता के तौर पर मीसा भारती, राबड़ी देवी, तेज प्रताप यादव यह तमाम लोग हैं। वहां अति पिछड़ों का कार्ड नहीं चलेगा। 

मनोज शर्मा ने कहा कि ललन सिंह के खाने के दांत अलग हैं और दिखाने के दांत अलग है। एक बात याद रखिए, भाजपा यथार्थ पर राजनीति करती है। भाजपा में तथ्यों के साथ सारी बातें की जाती है। जिस तरह से जाति आधारित गणना में आप लोगों ने घालमेल किया है। यह जग जाहिर है। आने वाले लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में जिस फायदे को लेकर आप लोग आप लोगों ने यह कार्ड खेला है, वह पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News