आतंक का अड्डा बन रहे मदरसों पर चल रहा बुलडोजर, अंसारुल्लाह बांग्ला और AQIS से जुड़े मदरसों को किया जमींदोज

आतंक का अड्डा बन रहे मदरसों पर चल रहा बुलडोजर, अंसारुल्लाह बांग्ला और AQIS से जुड़े मदरसों को किया जमींदोज

DESK. आतंक का अड्डा बताए जाने वाले मदरसों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए अब बुलडोजर से उन संरचनाओं को ढहाया जा रहा है. दरअसल, असम में अवैध मदरसों पर बड़ी कार्रवाई की गई है. इसके तहत अंसारुल्लाह बांग्ला और AQIS जैसे संगठनों से जुड़े मदरसा पर बुलडोजर चलाया गया है. बुधवार को बोंगाईगांव जिले के कबाईतारी भाग-IV गांव में स्थित मरकजुल मा-आरिफ क्वारियाना मदरसा को गिराया जा रहा है. AQIS/ABT से जुड़े इमाम और मदरसा शिक्षकों सहित 37 लोगों की गिरफ्तारी के बाद असम सरकार द्वारा ध्वस्त किया गया यह तीसरा मदरसा है. 

हालांकि एसपी स्वप्नील डेका ने बताया कि जिला प्रशासन ने एक आदेश में कहा कि मदरसा संरचनात्मक रूप से कमजोर और मानव निवास के लिए असुरक्षित है क्योंकि मदरसा की इमारतों को एपीडब्ल्यूडी विनिर्देशों / आईएस मानदंडों के अनुसार नहीं बनाया गया था. वहीं एक दिन पहले भी गोलपाड़ा जिला पुलिस ने भी मदरसे में एक्यूआईएस/एबीटी से जुड़े एक गिरफ्तार व्यक्ति के साथ तलाशी अभियान चलाया था। जिला प्रशासन के निर्देश के अनुसार हमने मदरसे को गिराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.


इसके पहले मोरीगांव जिले में 4 अगस्त को सारुल्लाह बांग्ला और AQIS संगठन से कनेक्शन के आरोप में प्रशासन ने बुलडोजर से एक मदरसे को गिरा दिया था. असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा है कि मदरसों को आतंकियों के ट्रेनिंग हब के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने कहा है कि इन मदरसों में शिक्षा की बजाय आतंक की ट्रेनिंग दी जा रही है. सरमा ने कहा कि असम में अब तक ऐसे दो मदरसों को गिराया जा चुका है.

असम सरकार ने 2020 में मदरसों को अनुदान देना बंद कर दिया था. हिमंत उस समय राज्य के शिक्षा मंत्री थे. इस फैसले के बाद राज्य में करीब 800 मदरसे बंद हो गए थे. हालांकि अभी भी राज्य में करीब 1000 निजी मदरसा चल रहे हैं. वहीं अब अंसारुल्लाह बांग्ला और AQIS जैसे संगठनों से जुड़े मदरसों पर बुलडोजर चलाने की यह बड़ी कर्रवाई है. 


Find Us on Facebook

Trending News