SARAN NEWS : छठे चरण के शिक्षक नियोजन में जालसाज सक्रिय, अभ्यर्थियों से वसूली मोटी रकम

SARAN NEWS : छठे चरण के शिक्षक नियोजन में जालसाज सक्रिय, अभ्यर्थियों से वसूली मोटी रकम

CHHAPRA : सारण में चल रहे छठे चरण के शिक्षक नियोजन में जालसाज सक्रिय हो गए हैं. बहाली कराने के लिए पहले से ही मोटी रकम वसूल चुके हैं और पूरे सेटिंग वेटिंग के साथ बहाली कराने का प्रयास कर रहे हैं. अभी तक जो जानकारी मिली है. उनमें कुछ सफल हो गए हैं तो कुछ पकड़ लिए गए हैं. चाहे वह नगर निकाय का मामला हो या फिर प्रखंड व पंचायत शिक्षक नियोजन का. सब में फर्जीवाड़ा करने की तैयारी हो चुकी है. यह तैयारी आज से नहीं आवेदन भरने के साथ ही शुरू कर दी गई थी. फर्जीवाड़ा कर बहाली कराने का जालसाजी की तकनीक अधिकारियों से लेकर आम लोगों को हैरत में डाल रही है. नगर निगम छपरा, एकमा प्रखंड, मशरख प्रखंड समेत अन्य नियोजन इकाइयों में ऐसे उदाहरण देखने को मिले हैं. 

फर्जीवाड़ा का ट्रिक नंबर-1

जालसाजो ने आवेदन भरने के समय ही सबसे पहले सेटिंग की. उसी समय जाली प्रमाण पत्रों के आधार पर आवेदन करवा दिया. इनका मेधा अंक काफी अधिक कर दिया. ताकि मेधा अंक देखकर ही पीछे वाले रफूचक्कर हो जाए. इससे कम अंक वाले चहेते अभ्यर्थियों का मार्ग प्रशस्त हो जाएगा. वहीँ अन्य जिलों से आए कम अंक वाले अभ्यर्थी वापस लौट जाएंगे. ऐसा हुआ भी. नगर निगम की बहाली में संस्कृत विषय में पकड़ी गई एक महिला और उसके रिश्तेदार ने जो बातें कहीं. उससे फर्जीवाड़ा का सारा भंडा फूट गया. एफ आई आर दर्ज हो चुकी है और पुलिस मामले की जांच कर रही है. उसी दिन गणित और विज्ञान समेत अन्य विषयों में हो रही बहाली को लेकर अभ्यर्थियों ने कई गंभीर आरोप लगाए और कहा था कि पहले फर्जी को बुलाकर काउंसलिंग कर ली गई और उसे भगा दिया गया. इस बीच चुकी एक ही सीट था. ऐसे में आम अभ्यर्थियों ने समझा इस सीट को भूल हो चुका है. अब यहां रहने से क्या फायदा. इसके बाद वे सब चले गए और जो सीट फर्जी अभ्यर्थी की वजह से खाली रह गया था. उसे भर लिया गया. 

फर्जीवाड़ा का ट्रिक नंबर-2

शिक्षक नियोजन में जालसाजों ने मेधा अंक में हेरफेर कर चयनित कराने की दूसरी अनोखी ट्रिक अपनाई है. आवेदन करने के समय ही एसटीइटी ओटीईटी के प्रमाण पत्रों में हेरफेर कर अपना अधिक मेधा अंक दिखा दिया है. ताकि सेलेक्शन हो जाए. फिर बाद में सेटिंग के तहत ओरिजिनल लगा दिया जाएगा और जाली को हटा दिया जाएगा. 

फर्जीवाड़ा का ट्रिक नंबर- 3

जालसाजों ने  अभ्यर्थियों को ठगने का कोई कोर कसर नहीं छोड़ा है. उन्होंने अभ्यर्थियों को जाली टीईटी अंक पत्र पर आवेदन करवा दिया है और मोटी रकम ऐंठ ली है. अब यह ही पकड़े जा रहे हैं वहीं जालसाज पैसा लेकर फरार हो रहा है. इन्हीं सब विवादों को लेकर एक माह प्रखंड शिक्षक नियोजन को रद्द कर दिया गया है. जबकि मसरख प्रखंड शिक्षक नियोजन को लेकर जांच बैठाई जा रही है. नगर निगम में हुए नियोजन को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं. कुल मिलाकर मामला तो जांच का बनता ही है.

क्या कहते हैं डीईओ

जो भी शिकायतें आ रही है. उनकी जांच हो रही है. एक माह से ज्यादा शिकायत आई थी. इसलिए उसे रद्द कर दिया गया है. एक भी फर्जी को बहाल होने नहीं दिया जाएगा. किसी को भी यदि कोई शिकायत है तो आकर बताएं फर्जी लोगों पर एफ आई आर दर्ज होगी. 

छपरा से संजय भारद्वाज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News