छात्रों का क्राइम स्टार्टअप : चोरी के मोबाइल को नया बना कर करते थे ओएलएक्स पर बेचने का काम, धंधे के तरीके को देख पुलिस भी रह गई हैरान

छात्रों का क्राइम स्टार्टअप :  चोरी के मोबाइल को नया बना कर करते थे ओएलएक्स पर बेचने का काम, धंधे के तरीके को देख पुलिस भी रह गई हैरान

PATNA : पटना पुलिस ने एक चेन स्नैचिंग के जरिये कई तार को जोड़ते हुए एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जो खुद का क्राइम स्टार्टअप शुरू किया था। इस बात का खुलासा खुद गिरफ्तार तीन छात्रों ने अपना जुर्म कबूला है. हैरान करने वाली  बात यह है कि गिरफ्तार छात्रों में दो कंकड़बाग के बड़े प्राइवेट स्कूल के स्टूडेंट व एक कॉलेज ऑफ कॉमर्स का एक छात्र शामिल है। जिसे कंकड़बाग थाना क्षेत्र से कंकड़बाग की पुलिस व पत्रकार नगर की पुलिस ने गिरफ्तार किया है.उसके पास से दर्जनों मोबाइल फोन, एक फर्जी बिल,मोबाइल फोन पैकिंग प्लास्टिक, दो फर्जी नंबर प्लेट,कंपनी के डुप्लीकेट चार्जर व इयर फोन, कंपनी के डुप्लीकेट मोबाइल कवर, एटीएम समेत अन्य कई सामान बरामद हुआ हैं। चौकाने वाली बात यह है कि इन तीनों आरोपितों की गिरफ्तारी पटना पुलिस द्वारा मास्टरमाइंड चेन स्नैचर सूरज की गिरफ्तारी के बाद हुआ है.तीनों के खिलाफ कंकड़बाग थाना में केस दर्ज कर लिया गया है. इन तीनों की गिरफ्तारी कंकंदबाग थाना क्षेत्र के एफ सेक्टर से हुई है।

तीनों छात्र चोरी के मोबाइल को बना देते थे नया फोन

मामले में पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार तीनों छात्र चेन स्नैचर सूरज के लिए काम करते थे. हालांकि शातिर चेन और मोबाइल स्नैचर सूरज को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और उसके साथ सात रिसिवर को भी गिरफ्तार किया गया है. सूरज मोबाइल झपट कर यह तीनों छात्रों को कम दामों में बेच देता था. इसके बाद उस मोबाइल को पूरी नया बनाने में आरोपित छात्र जुट जाते थे. पहले मोबाइल को फॉर्मेट मारते थे फिर मोबाइल के कवर को चेंज कर देते थे. इसके बाद उसे नया बनाने के लिए कंपनी के डी चार्जर, डी इयर फोन और डी मोबाइल डब्बा लेकर उसे मोबाइल पैकिंग प्लास्टिक में पैक कर देते थे.जिसके बाद उसे बेचने के लिए ओएलएक्स पर डाल देते थे. खरीददार को कोई शक न हो इसके लिए गिरफ्तार छात्रों ने याशिका कम्युनिकेशन का बिल बुक भी छपवा रखा था, जिसमें अपना मुहर लगा उसे बेच देते थे


क्राइम स्टार्टअप के लिए तीन सेंटर खोल रखे थे

पूछताछ में पुलिस को आरोपित छात्रों ने बताया कि वह इस क्राइम स्टार्टअप को बढ़ाने के लिए तीन जगह अलग-अलग फ्लैट लिये हुए थे, जिसमें यह चोरी के मोबाइल को नया बनाकर बेचने का काम करते थे. गिरफ्तार आरोपित में कॉलेज ऑफ कॉमर्स का छात्र अंशु की गिरफ्तारी कंकड़बाग के एक हॉस्पिटल से हुआ है. अंशु ने ही पत्रकार नगर थाना क्षेत्र के अपार्टमेंट से हुए चेन स्नैचिंग में लाइनर का काम किया था. गिरफ्तार तीनों छात्रों ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि वह चोरी के मोबाइल को नया बनाकर बेचने के काम करता था।

अनिल की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News