छठ को लेकर प्रमंडलीय आयुक्त ने अधिकारियों के साथ की बैठक, खतरनाक घाटों को प्रबंधित करने सहित दिए कई निर्देश

छठ को लेकर प्रमंडलीय आयुक्त ने अधिकारियों के साथ की बैठक, खतरनाक घाटों को प्रबंधित करने सहित दिए कई निर्देश

PATNA : प्रमंडलीय आयुक्त पटना संजय कुमार अग्रवाल ने प्रमंडल के सभी जिलों के डीएम, एसएसपी/ एसपी, नगर आयुक्त सहित कई उच्चाधिकारियों के साथ छठ घाटों एवं संपर्क पथ हेतु संचालित कार्य की प्रगति की समीक्षा की तथा अधिकारियों को मिशन मोड में कार्य करने एवं सभी कार्य 2 दिनों के भीतर पूरा करने का निर्देश दिया। बैठक में एनडीआरएफ एसडीआरएफ की तैनाती, घाटों पर बिजली की निर्बाध व्यवस्था, खतरनाक घाट की व्यवस्था, घाटों पर मेडिकल टीम की तैनाती आदि बिंदुओं पर समीक्षा की गई। 

छठ घाटों पर बिजली की निर्बाध आपूर्ति का निर्देश

आयुक्त ने सभी घाटों पर बिजली की निर्बाध आपूर्ति 8 नवंबर तक सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। इसके लिए बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता ,सहायक अभियंता, कनीय अभियंता को सक्रिय करने तथा प्रत्येक घाट पर  सुदृढ़ व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। किसी घाट पर बिजली ट्रिप नहीं करें तथा नहीं कटे, इसकी सतत एवं प्रभावी निगरानी करने का निर्देश अधीक्षण अभियंता बिजली को दिया। उन्होंने बिजली आपूर्ति निगम के प्रबंध निदेशक तथा बिजली विभाग को पत्र निर्गत कर अनुरोध करने का निर्देश दिया कि छठ महापर्व के अवसर पर घाटों पर बिजली की निर्बाध आपूर्ति हेतु मॉनिटरिंग के प्रभावी व्यवस्था  की जाए।

सीएस को टीम गठित कर मेडिकल कैंप लगाने का निर्देश

आयुक्त ने सभी सिविल सर्जन को मेडिकल टीम गठित करने तथा घाटों पर तैनाती करने का निर्देश दिया। टीम के साथ जीवन रक्षक दवा तथा एंबुलेंस की समुचित व्यवस्था अपेक्षित है। आपातकालीन स्थिति से निपटने हेतु भी निकटवर्ती अस्पतालों को खुला रखने तथा डॉक्टर एवं कर्मी की प्रतिनियुक्ति करने का निर्देश दिया। कोविड का खतरा अभी गया नहीं है। उन्होंने घाटों पर कोविड के टेस्टिंग एवं वैक्सीनेशन की समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया। इसके लिए सिविल सर्जन को टीम गठित करने को कहा । वैसा व्यक्ति जो अब तक टीका नहीं लिए हैं वैसे लोगों के लिए सुगम तरीके से वैक्सीन लेने की व्यवस्था की जाएगी। उक्त सभी कार्यों के निष्पादन हेतु सिविल सर्जन को संबंधित डॉक्टर एवं कर्मियों के साथ बैठक करने तथा उसका समुचित ब्रीफिंग करने का निर्देश दिया। इसलिए घाटों पर कोविड मानक का पालन करने संबंधी साइनेज लगाने का निर्देश दिया।

घाटों पर एनडीआरएफ / एसडीआरएफ की होगी तैनाती

प्रमंडलीय आयुक्त ने सभी डीएम को छठ पर्व के दौरान नदी में निजी नाव का परिचालन बंद करने का सख्त निर्देश दिया। साथ ही एनडीआरएफ एसडीआरएफ को एक्टिव मोड में रखने तथा उसके साथ दो दो  वोलंटियर एवं गोताखोर को संबद्ध करने का निर्देश दिया। ताकि किसी घाट पर भी दुर्घटना की खबर पाते ही टीम पूरी तत्परता के साथ बिना देर किए हुए समय पर पहुंचे तथा सुरक्षा प्रदान किया जा सके। बैठक में अवगत कराया गया कि पटना  मे एनडीआरएफ की 8 टीम तथा 62 मोटरबोट, एसडीआरएफ की 4 टीम तथा 8 मोटरबोट तैयार है जो लाइफ सेविंग सीट के साथ तैयार अवस्था में है। इसके अतिरिक्त सिविल डिफेंस के 96 स्वयंसेवक 185 गोताखोर, 4 वाटर एंबुलेंस, 285 नाव, 285 नाविक, 408 गोताखोर  तैयार है। आयुक्त ने  अपर समाहर्ता आपदा को संबंधित के साथ बैठक करने तथा उन्हें समुचित ब्रीफिंग करने का निर्देश दिया। एनडीआरएफ एवं एसडीआरएफ की टीम को सक्रिय एवं तत्पर होकर कार्य करने तथा समुचित सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश दिया।

खतरनाक घाटों को प्रतिबंधित करने का निर्देश

प्रमंडलीय आयुक्त ने सभी डीएम को खतरनाक घाटों को चिन्हित कर सूचीबद्ध करने तथा उन घाटो को खतरनाक घोषित कर अर्घ्य हेतु प्रतिबंधित करने का निर्देश दिया। जल संसाधन विभाग की टीम को नदी के जल की गहराई जल के प्रवाह तथा नदी तट के कटाव का निरीक्षण कर इस संबंध में निर्णय लेने का निर्देश दिया। साथ ही खतरनाक घाट पर अर्घ्य देने की व्यवस्था नहीं है, इस आशय  का व्यापक प्रचार प्रसार करने का निर्देश दिया। बैठक में प्रमंडल के सभी जिला के डीएम एसएसपी एसपी नगर आयुक्त सहित कई उच्चाधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से संबद्ध थे।

पटना से अनिल की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News