पटना में जमीन विवाद में हुई थी एलिफैंट मैन की हत्या, दिया गया था कांट्रेक्ट, जाने कौन है हत्यारा

पटना में जमीन विवाद में हुई थी एलिफैंट मैन की हत्या, दिया गया था कांट्रेक्ट, जाने कौन है हत्यारा

PATNA : पटना के एलिफैंट मैन उर्फ हाथी काका के नाम से मशहूर अख्तर इमाम उर्फ अख्तर मुखिया की गोली मार कर ह्त्या के 27 दिन बाद पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा कर दिया। अख्तर मुखिया हत्याकांड का खुलासा करते हुए फुलवारी शरीफ थाना में एएसपी मनीष कुमार ने बताया कि 3 नवम्बर को जानीपुर के मुर्गिया चक में एलीफेंट नाम से मशहूर अख़्तर इमाम उर्फ़ अख्तर मुखिया को अपराधी ने गोलियों से छलनी कर हत्या कर दिया था। अख्तर मुखिया की हत्या जमीन के विवाद में हुआ था। पुलिस ने अख्तर मुखिया हत्याकांड में सुपारी देने वाले सज्जू उर्फ शहजादा एवम एक शूटर सोनू उर्फ सरफ़ुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि जैसा कि अनुमान लगाया जा रहा था कि इस हत्या में परिवार का कोई सदस्य शामिल हो सकता  है, वह पूरी तरह से गलत साबित हुआ है। पुलिस को इस बारे में कोई सबूत नहीं मिले हैं। पुलिस ने साफ कर दिया है परिवार के किसी सदस्य ने एलीफैंट मैन की हत्या की साजिश नहीं रची थी

इस हत्याकांड में शामिल दो अन्य फरार चल रहे शूटरों की गिरफ्तारी नही हो पाई है, जिनके बारे में पुलिस ने अनुसंधान प्रभावित होने का हवाला देते हुए नामों का खुलासा नही किया है। साथ ही पुलिस ने इस हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार और मोटरसाइकिल को भी अभीतक बरामद नही कर पाई है। पुलिस को फरार शूटरों के बारे में पूरी जानकारी हासिल हो चुका है। हत्या में शामिल अपराधियो ने पुलिस को बताया कि उन लोगो ने एक जमीन के फर्जी खरीद बिक्री के ग्राहक बनकर दस्तावेज बनाकर रुपये देने के नाम पर हत्या वाले दिन वहां पहुंचे थे। अपराधियो की मंशा अख्तर के साथ ही उसके केयर टेकर चन्दन की हत्या का भी इरादा था , लेकिन उस वक्त केयर टेकर कहीं दूसरी जगह नास्ता करने चला गया था । जिससे उसकी जान बच गयी। पुलिस को अख्तर की हत्या में उसके परिवार वालों का कोई हाथ नहीं नजर आया है।


 एएसपी ने बताया कि फुलवारीशरीफ के जानीपुर थाना थाना कांड संख्या 916 / 2021 दिनांक 04.11.2021 को जानीपुर में दर्ज कराया गया था । जिसमे धारा -302 / 326 / 34 भा 0 द 0 वि एंव 27 आर्म्स एक्ट के तहत अनुसन्धान प्रारम्भ किया गया। सर्विलांस के आधार पर कई संदिग्ध मोबाइल नम्बर मिला जिससे मृतक और उसके केयर टेकर से कुछ लोग जमीन के ग्राहक बनकर सम्पर्क कर रहे थे। पुलिस के मुताबिक अख्तर मुखिया जमीन का कारोबार करता था । उसका कई लोगों से जमीन को लेकर विवाद चल रहा था । जिसमें रिटायर सिपाही मोहम्मद खुर्शीद के बेटे ने सुपारी देकर उसकी हत्या कराई गिरफ्तार सुपारी देने वाला संजू ने पुलिस को बताया है कि उसकी जमीन पर अख्तर मुखिया जबरदस्ती कब्जा बनाए हुए था। अपराधियों ने अख्तर मुखिया को गोलियों से छलनी कर हत्या कर दिया था।

बता दें लिफैंट मैन उर्फ हाथी काका के नाम से मशहूर अख्तर इमाम उर्फ अख्तर मुखिया तब चर्चा में आ गए थे, जब उन्होंने अपनी करोड़ों रुपए की प्रॉपर्टी अपने पालतू हाथी के नाम कर दी थी। उनके इस फैसले के कारण परिवार के लोग भी नाराज थे। यही कारण था उनकी हत्या के बाद यह माना जा रहा था कि इसमें परिवार का ही कोई सदस्य शामिल हो सकता है।

Find Us on Facebook

Trending News