इथेनॉल बनाने के लिए चीनी बनाने की अनिवार्यता खत्म, 15 साल बाद केंद्र से मिली मंजूरी

इथेनॉल बनाने के लिए चीनी बनाने की अनिवार्यता खत्म, 15 साल बाद केंद्र से मिली मंजूरी

पटना। सरकार ने इथेनॉल के उत्पादन के लिए चीनी बनाने की शर्त को खत्म कर दिया है। अब बिना चीनी बनाए भी कोई कंपनी इथेनॉल का उत्पादन कर सकती है। केंद्र सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी है।  उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने शुक्रवार को विधानसभा में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि बिहार में गन्ना मक्का के साथ टूटे फूटे चावल अब बेकार नहीं जाएगा। हालांकि उनके जवाब से नाखुश सदन से वाकआउट कर गया

शुक्रवार को बिहार विधानसबा उद्योग मंत्री ने बताया कि सीएम नीतीश कुमार ने 2006- 07 में चीनी मिलों को एथेनॉल उत्पादन के अनुमति देने की मांग तत्कालीन यूपीए सरकार से की थी। लेकिन यूपीए ने इस प्रस्ताव को ठंडे बस्ते में डाल दिया था है। लेकिन मोदी सरकार ने इसकी अनुमति दे दी है गन्ना और मक्का के साथ-साथ टूटे-फूटे और सड़े गले अनाज से भी अब इथेनॉल का उत्पादन हो सकेगाय़ इस दौरान उन्होंने कहा कि मुझे गर्व है कि उद्योग विभाग की जिम्मेदारी दी गई है यह मेरा सौभाग्य राज्य के 9 मुख्यमंत्री ने पहले इस विभाग की जिम्मेदारी संभाली है।

कांग्रेस पर जमकर बरसे

इस दौरान शाहनवाज हुसैन कांग्रेस की यूपीए सरकार पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने मनमोहन सरकार ने दस साल तक इस प्रस्ताव को दबाए रखा और बिहार के साथ अन्याय किया।

Find Us on Facebook

Trending News