सरकारी भवन बनने के बाद भी निजी भवन में चल रहा आंगनबाड़ी केंद्र, जनसुनवाई में सुनकर चौंके सीएम नीतीश, बोले हिम्मत कैसे हुई ऐसे करने की

सरकारी भवन बनने के बाद भी निजी भवन में चल रहा आंगनबाड़ी केंद्र, जनसुनवाई में सुनकर चौंके सीएम नीतीश, बोले हिम्मत कैसे हुई ऐसे करने की

पटना. मधुबनी में आंगनबाड़ी केंद्र के लिए सरकारी भवन बनने के बाद भी निजी भवन में आंगनबाड़ी केंद्र चल रहा है. जुनसुनवाई के दौरान सीएम ने ये जब सुनी तो हैरान रहे गये. इसके बाद सीएम ने तुरंत समाज कल्याण विभाग के अपर सचिव को फोन कर इसकी जानकारी दी और कहा कि ऐसे करने की हिम्मत कैसे हुई. इसके जल्दी पता कर इस पर कार्रवाई करिए.

बिहार में आंगनबाड़ी सेविका की बहाली में अनियमितता को लेकर अधिकारी को हरकाया. सीएम ने जनसुनवाई के दौरान एक मामले की सुनावई करते ही अधिकारी को फोन किया और अधिकारी से पूछा कि भाई आंगनबाड़ी सेविका बहाली में अनियमितता के बहुत मामले आ रहे हैं, ऐसे क्यों. उन्होंने इसको लेकर अधिकारियों को कार्रवाई के लिए भी निर्देश दिये.

पिछले साल कोरोना से डेथ होने पर भी अभी तक अनुग्रह राशि नहीं मिलने पर मृतका के पति ने जनता दरबार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से फरियाद की. मृतका आंगनबाड़ी सेवका है. अक्टूबर 2020 में उसकी कोरोना से मौत हो गयी. वहीं उसके परिवार को सरकारी अनुदान नहीं मिलने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनसुनवाई के दौरान समाज कल्याण विभाग को फोन कर तुरंत इस पर कार्रवाई को निर्देश दिये.

बता दें कि 11 बजे से सीएम नीतीश कुमार जनसुनवाई कर रहे हैं. इसमें अधिकतर कोरोना से मौत पर अनुदान नहीं मिलने का मामला सामने आ रहा है. कोई अपनी पत्नी की कोरोना से मौत पर अनुदान राशि के लिए फरियाद कर रहा है, तो अपने पिता की मौत के पर सरकारी अनुदान की मांग कर रहा है.


Find Us on Facebook

Trending News