‘इतना तो मजनू भी नहीं पिटा होगा लैला के प्यार में, जितना बेरोजगार पीटे जा रहे भाजपा सरकार में’

‘इतना तो मजनू भी नहीं पिटा होगा लैला के प्यार में, जितना बेरोजगार पीटे जा रहे भाजपा सरकार में’

पटना. बिहार में छात्रों का गुस्सा इन दिनों सातवें आसमान पर है. 24 जनवरी से बिहार में शुरू हुआ छात्रों का आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है. आरआरबी एनटीपीसी परीक्षा परिणाम में अनियमितता और ग्रुप डी परीक्षा पैटर्न में हुए बदलाव के खिलाफ छात्रों का शुरू हुआ आंदोलन रेलवे की ओर से सफाई देने के बाद भी बरकरार है. 28 जनवरी को छात्र संगठनों ने बिहार बंद बुलाया है. 

 हालाँकि रेलवे ने छात्रों के गुस्से को देखते हुए न सिर्फ  आरआरबी एनटीपीसी परीक्षा परिणाम पर रोक लगाई है और ग्रुप डी परीक्षा स्थगित कर दी है बल्कि एक समिति भी गठित की है. समिति अब छात्रों की समस्या सुनेगी और एक रिपोर्ट पेश करेगी. लेकिन छात्र फ़िलहाल आंदोलन से पीछे हटते नहीं दिख रहे हैं. 

‘न्यूज़4नेशन’ ने गुरुवार को  पटना के विभिन्न शिक्षण संस्थानों का दौरा किया और छात्रों की समस्या जानी. छात्रों के एक बड़े वर्ग ने सत्तासीन केंद्र और बिहार सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा प्रकट किया. पिछले चार दिनों के दौरान छात्रों के खिलाफ पुलिस के बल प्रयोग के खिलाफ भी युवाओं में गुस्सा है. एक छात्र ने पुलिसिया पिटाई की याद दिलाते हुए कहा, ‘इतना तो मजनू भी नहीं पिटा होगा लैला के प्यार में, जितना बेरोजगार पीटे जा रहे भाजपा सरकार में’. उसका गुस्सा केंद्र सरकार पर था जिसने पहले वर्षों रेलवे परीक्षा अटकाकर रखी और अब परिणाम को विवाद में ला दिया है. 

एक छात्र ने कहा कि यह दिखाता है कि केंद्र सरकार जानबूझकर सरकारी नौकरियों के रस्ते को बंद कर रही है. वहीं कुछ छात्रों का कहना था कि बिहार सरकार ने आंदोलन को दबाने के लिए जिस प्रकार का बल प्रयोग किया वह ब्रिटिश राज की याद दिलाता है. वहीं यूट्यूब पर live के दौरान एक छात्र ने गुस्से में कहा, मैं शपथ लेता हूँ कि बीजेपी को वोट नहीं करूँगा. एक ने कहा, अब राजा का बेटा राजा नहीं बनेगा राजा वही बनेगा जो हकदार होगा. वहीं कुछ ने मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं को लेकर सरकार को कटघरे में खड़ा किया. 

छात्रों का गुस्सा खान सर के खिलाफ दर्ज एफआईआर को लेकर भी है. पुलिस ने खान सर सहित छह शिक्षकों के खिलाफ छात्रों को उकसाने और षड्यंत्र करने का आरोप लगाकर मामला दर्ज दिया है. एक यूजर ने लिखा, Khan Sir के साथ गलत हो रहा है, खान सर ने किसी को नहीं भड़काया है, जब से भाजपा आई है, हमेशा छात्रों के साथ गलत हुआ है. एक ने लिखा, खान सर की कोई भूमिका नहीं है. हम स्टूडेंट है, सर हम पीछे नहीं हटेंगे. एक ने लिखा, इस कलयुग में खान सर सच में ईश्वर के रूप है. एक ने कहा, हे भारत तू ने देखा है गुरू के अपमान परिणाम.

Find Us on Facebook

Trending News