गांव के इन शातिर ठगों के सामने सब फेल, जमीन पर कब्जा करने के लिए चली ऐसी चाल कि पुलिस भी हैरान

गांव के इन शातिर ठगों के सामने सब फेल, जमीन पर कब्जा करने के लिए चली ऐसी चाल कि पुलिस भी हैरान

BETIA : अब तक तो आपने ज़मीन के मामलों में लाठी डंडों समेत बंदूक के बल पर ज़बरन कब्ज़ा करने की कई घटनाएं देखी औऱ सुनी होंगी लेक़िन यहां एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिसके अब ज़मीन धारकों को चौकन्ना होने की ज़रूरत है हम ऐसा इसलिये कह रहे हैं कि कहीं आपकी भी ज़मीन आपके पड़ोसी या पट्टीदार किसी दूसरे को बिक्री न कर दें।जी हां भूमि विवाद के मामले बिहार में अक़्सर ख़ून खराबा औऱ मारपीट को लेकर सुर्खियों में रहते हैं लेकिन इसी बीच पश्चिम चंपारण ज़िला के बेतिया स्थित श्रीनगर पूजहा थाना क्षेत्र के भवानीपुर से एक ऐसा मामला उजागर हुआ है जिसके बाद पुलिस के भी होश उड़ गए हैं। 

दरअसल बेतिया पुलिस ज़िले के श्रीनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत भवानीपुर की रहने वाली आशा देवी की रैयती दास्तवेजी ज़मीन उन्हीं के गांव के रहने वाले शख़्स रामचंद्र प्रसाद औऱ महेन्द्र प्रसाद महतो ने अपनी ही बेटी को खड़ा कर ख़ुद के नाम रजिस्ट्री करा लिया है इतना ही नहीं अब गांव के ये नटवरलाल रामचंद्र औऱ महेन्द्र वृद्ध महिला आशा देवी की ज़मीन हड़पने की नीयत से इसे ख़ारिज दाख़िल करवा कर बैंक से ऋण लेने की तैयारी में जुटे हैं। 

इस तरह सामने आयी सच्चाई

मामले का खुलासा तब हुआ जब क़रीब 72 वर्षीय दिल की मरीज़ आशा देवी को इसकी भनक लगी तो उन्होंने रजिस्ट्रार के दफ़्तर औऱ अंचल कार्यालय में जाकर इसकी सच्चाई का पता लगाया जिसके बाद पीड़िता ने फौरन इसकी सूचना स्थानीय थाना पुलिस को दी पहले तो थाना पुलिस द्वारा उन्हें समझा बुझाकर वापस लौटा दिया गया लेक़िन इसकी शिकायत जैसे ही बेतिया एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा से की फ़िर क्या कप्तान के आदेश पर तत्काल पुलिस ने श्रीनगर थाना कांड संख्या 37/21 दर्ज़ किया औऱ पुलिस अनुसंधान में जुट गई बाद में जब सदर SDPO मुकुल परिमल पाण्डेय ने कांड का अनुसंधान किया तो मामला सत्य पाया गया औऱ केस को ट्रू कर SDPO ने फ्रॉड करने वाले आरोपीयों को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया । इतना ही नहीं तब तक केस सक्षम न्यायालय तक पहुंच गया औऱ बेतिया कोर्ट ने आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर इश्तेहार जारी किया है फ़िर भी आरोपी पुलिस की गिरफ़्त से बाहर हैं।

केस वापस लेने की मिल रही है धमकी, पुलिस से नहीं मिल रही है मदद

अब दबंगई इस हद तक कि जाने लगी है कि फ़रार आरोपी केस के गवाहों समेत पीड़िता को मुकदमा वापस लेने को लेकर धमकाने से भी बाज़ नहीं आ रहे हैं जिसको लेकर आशा देवी अपने बेटों के साथ डरी सहमी बेतिया पुलिस के वरीय अधिकारियों के दफ़्तर में दर बदर भटक रही न्याय के साथ अपनी सुरक्षा की गुहार लगा रही हैं।

इस मामले में बेतिया सदर SDPO मुकुल परिमल पांडेय ने बताया कि केस की सतही जांच की गई है। मामला सत्य पाया गया है औऱ न्यायालय के आदेश पर आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर वारंट निर्गत होने के बाद अब इश्तेहार चस्पा किया जा रहा है जल्द ही आरोपी या तो सरेंडर करेंगें या गिरफ्तार किये जाएंगें। 

ऐसे में अब सवाल यह है कि आख़िर किन परिस्थितियों में बेतिया रजिस्ट्री ऑफिस से आशा देवी की बग़ैर मौजूदगी औऱ बिना सत्यापन के उनकी जगह किसी औऱ ने फर्जी तरीके से ख़ुद को आशा देवी बता कर ज़मीन की रजिस्ट्री कर दिया औऱ शिक़ायत के बाद भी श्रीनगर पूजहा थाना की पुलिस ने समय रहते कोई कार्रवाई क्यों नहीं कि इसका ज़वाब फ़िलहाल किसी के पास नहीं हैं लेकिन पुलिस के वरीय अधिकारी न्याय औऱ कार्रवाई का भरोसा जरूर दिला रहे हैं। 

अब देखने वाली बात होगी कि मुकदमा सही पाए जाने के बाद पुलिस इन दोनों ठगों रामचन्द्र प्रसाद औऱ महेंद्र प्रसाद को कब तक गिरफ्तार करती है औऱ रजिस्ट्री ऑफिस इस डीड को रद्द करता भी है या नहीं इसके लिए अभी इंतज़ार करना होगा ।


Find Us on Facebook

Trending News