फेमस महिला मॉडल ने तीन साल तक नहीं किया सेक्स,उसके बाद जो हुआ उसका खुलासा बेहद रोचक है, पढ़िए

फेमस महिला मॉडल ने तीन साल तक नहीं किया सेक्स,उसके बाद जो हुआ उसका खुलासा बेहद रोचक है, पढ़िए

Desk. सेक्स को लेकर अजीबोगरीब बातें सामने आती रहती है. ऑस्ट्रेलिया की एक मॉडल ने सेक्स को लेकर जो खुलासा किया है. उससे अप भी हैरतअंगेज रह जाएंगे. दरअसल उन्होंने तीन साल तक सेक्स नहीं किया. इस दौरान उनके जीवन में जो बदलाव आया, उस अनुभव को उन्होंने एक विदेशी अखबार से इंटरव्यू के दौरान साझा किया. ऑस्ट्रेलिया की फेमस मॉडल रही अमरंथा रॉबिन्सन ने 'द गार्डियन' से अपनी सेक्स लाइफ से जुड़ी एक खास कहानी साझा की है. अमरंथा ने बताया है कि किस प्रकार उन्होंने तीन साल तक सेक्स से दूरी बनाए रखी और इस दौरान उनके साथ क्या-क्या हुआ.

अमरंथा ने बताया, '2016 में जब मैं 30 वर्ष की थी तो मेरी डेटिंग लाइफ बहुत खराब चल रही थी. मेरी जिंदगी में एक जैसी हो गई थी. मैं किसी पुरुष से मिलती थी और मुझे वो पसंद आने लगता था, हम फिजिकल होते और हमारा रिश्ता जल्दी टूट जाता था. लगातार ऐसा होने से मुझे ऐसा लगने लगा कि पुरुष मेरे पास केवल सेक्स के लिए ही आते हैं और जब उनका मन ऊब जाता तो वो मुझे छोड़कर चले जाते हैं. मैंने सोचा कि क्यों ना जिंदगी से सेक्स को हटा कर देखा जाए और फिर भी मेरे साथ कोई रहता है तो वो सच में मेरे लिए ही होगा. इसके बाद मैंने फिजिकल रिलेशनशिप बनाना बंद कर दिया और चर्च जाना शुरू कर दिया था. वहां मेरे इस विश्वास को और भी मजबूती मिल गई कि सेक्स एक बुरी चीज है और इससे सिर्फ दर्द ही मिलता है.'

अमरंथा ने आगे कहा, 'बिना किसी पुरुष से संबंध बनाए मेरे दो साल बड़े अच्छे से गुजरे. डेटिंग लाइफ में बिना किसी इमोशनल पेन के रहना मेरे लिए किसी उपलब्धि जैसा हो गया था. मैं खुश रहने लगी और चर्च के सिद्धांतों पर पूरी तरह चलने लगी थी. भावनात्मक रूप से मैं स्थिर हो चुकी थी, लेकिन इसका असर मेरी कुछ चीजों पर भी पड़ने लगा था. किसी भी चीज में मैं अब अपनी ओर से कम प्रयास करने लगी थी. मुझे लगने लगा था कि किसी भी काम को करने के लिए मुझे ज्यादा ऊर्जा लगाना पड़ रहा है. तीसरे साल आते-आते मुझे मेरी डेटिंग लाइफ भी बुरी लगने लगी.'


अमरंथा बताती हैं, 'मुझे लगने लगा जैसे कि मेरी जिंदगी में कोई रोमांच ही नहीं बचा है. ये केवल सेक्स से जुड़ा हुआ नहीं था, मैं छोटी-छोटी चीजें मिस कर रही थी जैसे कि फ्लर्ट करना या फिर किसी पुरुष के लिए खास महसूस करना. ऐसा लग रहा था कि मैं जीना भूल गई हूं और अंदर ही अंदर मैं कुछ खोती जा रही हूं. मेरे मन में एक उदासी घर करती जा रही थी. मैं अपने शरीर और सेंशुअलिटी से दूर होती जा रही थी. इसके साथ ही मैरा चर्च जाने का मन भी नहीं करता था. तीन साल बार आखिरकार मैंने खुद को एक और मौका देने का निर्णय लिया. इसके बाद मैं ऑनलाइन आइलैंड के एक पुरुष से मिली और वहां ट्रिप पर जाने का प्लान बनाया.

'इस प्लान के साथ ही मेरे मन में कई तरह के ख्याल आने लगे. मैं सोच रही थी कि यदि मैं इस ट्रिप को पूरी तरह नहीं जिऊंगी तो मैं जिंदगी भर का अनुभव कैसे ले पाऊंगी. मैंने निर्णय लिया कि मैं कहानियों की बातें और खुद को जज करना छोड़कर अपनी आत्मा और शरीर की आवाज सुनूंगी. मेरी डेटिंग लाइफ में कुछ भी उत्साहजनक नहीं था पर मैं सब प्रकार का अनुभव लेने के लिए तैयार थी. आइलैंड पर मैंने वो सब किया, जो मैं करना चाहती थी. इसके साथ ही मुझे लगा कि मेरी जिंदगी का रोमांच फिर से लौट आया है.'

अपनी जिंदगी से जुड़े इस सच को बताते हुए अमरंथा ने आखिरी में कहा, 'मैंने ये भी सीखा है कि खुद से बनाई गई कहानियां या विचार बहुत बार आपको ही मुश्किल में डाल देते हैं. इसलिए मैंने फैसला किया कि अब आगे से मैं खुद को किसी भी चीज से दूर नहीं रखूंगी. मैंने अपनी कहानी दोबारा लिखी है. हालांकि सेक्स से कुछ सालों तक दूर रहने पर मुझे कई चीजों को लेकर स्पष्ट हो चुकी हूं. मेरे लिए यह एक ऐसे विराम की तरह था, जिससे मुझे नई खोज मिली कि मैं कौन हूं, मैं जिंदगी से क्या चाहती हूं और मेरे लिए वास्तव में क्या ज्यादा जरूरी है.'

Find Us on Facebook

Trending News