खेतों में दरार के साथ किसानों का फट रहा कलेजा, समस्या को देखते हुए निर्दलीय एमएलसी ने बिहार के सीएम नीतीश से कर दी यह मांग

खेतों में दरार के साथ किसानों का फट रहा कलेजा, समस्या को देखते हुए निर्दलीय एमएलसी ने बिहार के सीएम नीतीश से कर दी यह मांग

NAWADA : नवादा जिले में मानूसन ने दगा दे दिया। बारिश के अभाव में बिचड़ा लगे खेत सूख रहे हैं। दरारें फटने लगी हैं। खेतों का यह हाल देख किसानों का कलेजा फटने लगा है। मौसम का हाल यह है कि वर्षा की बूंदों के बजाए सूर्य की कड़ी तपिश धरती पर उतर रही है। खेती के लिए अनुकूल आद्रा नक्षत्र बीत गया, आषाढ़ का महीना समाप्त होने को है, दो दिन बाद सावन महीने का प्रवेश होगा। लेकिन बारिश नहीं हो रही। ऐसे में अब नवादा के निर्दलीय एमएलसी अशोक यादव ने किसानों को समस्या को लेकर सीएम से मांग की है कि वह जिले को सूखाग्रस्त घोषित करे।

उन्होंने कहा कि  जुलाई का पहला पखवारा भी समाप्त होने वाला है और अबतक मात्र 30 मिलीमीटर ही बारिश दर्ज की गई है, जबकि इस महीने में सामान्य वर्षापात 261.60 एमएम है। यानि सामान्य वर्षापात से काफी कम बारिश हुई, वह भी जिले के छिटपुट स्थानों पर। पूर्वानुमान भी किसानों की उम्मीदों से विपरित है। 

बता दें कि नवादा में बारिश नहीं होने से किसानों को चिंता सताने लगा है और इसी को लेकर नवादा की निर्दलीय एमएलसी अशोक यादव ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार से यह मांग किया है कि नवादा को सूखाग्रस्त जिला घोषित किया जाए। उन्होंने सर्किट हाउस में किसानों के साथ खेत में दरार पड़ने के मुद्दों पर भी बातचीत की है। और किसानों ने बिहार सरकार से नवादा को सूखाग्रस्त घोषित करने को लेकर एमएलसी को भी आवेदन दिया हैं।

एमएलसी अशोक यादव ने कहा कि  एक तरफ केंद्र सरकार राशन पर जीएसटी लगाकर महंगाई बढ़ा दिये हैं। वही इधर किसान को अब अनाज उपजाऊ करने में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बारिश नहीं होने के कारण पूरे किसान काफी चिंतित है। जैसे जैसे खेत में दरार आ रहा है। वैसे वैसे किसानों की कलेजा भी फट रहा है।

Find Us on Facebook

Trending News