LJP पर कब्जा की लड़ाई: 'पारस' नेता घोषित तो चिराग ने सभी को दल से निकाला, पटना में मुट्ठी भर समर्थकों ने सांसदों की तस्वीर पर पोती कालिख

LJP पर कब्जा की लड़ाई: 'पारस' नेता घोषित तो चिराग ने सभी को दल से निकाला, पटना में मुट्ठी भर समर्थकों ने सांसदों की तस्वीर पर पोती कालिख

PATNA: चिराग पासवान अब लोजपा में अकेले पड़ गये हैं। पांच सांसदों ने अलग गुट बना लिया और चिराग पासवान को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से हटा दिया है। साथ ही लोकसभा अध्यक्ष ने पशुपति कुमार पारस को लोजपा संसदीय दल का नेता की मान्यता दे दी है। यानी चिराग पासवान न घऱ के रहे न घाट के। तीन दिन बाद चिराग पासवान जागे हैं और अब पांचों सांसदों को पार्टी से निकाल दिया है। हालांकि चिराग पासवान के इस कदम से उन सांसदों को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। सोमवार को ही लोकसभा अध्यक्ष ने चिराग पासवान को संसदीय दल के नेता से हटाते हुए पशुपति कुमार पारस को नया नेता की मान्यता दे दी थी। इधऱ, दिल्ली की लड़ाई धीरे-धीरे पटना शिफ्ट हो रही है। लोजपा के कई सांसद आज पटना पहुंच भी गये हैं। इधर लोजपा में बगावत के बाद पार्टी के नेता भी दो गुटों में बंट हुए दिख रहे हैं।

लोजपा कार्यालय पर कब्जा की लड़ाई शुरू 

दिल्ली में लोजपा की लड़ाई जारी है। उसकी आँच अब पटना तक पहुंच रही है। आज लोजपा प्रदेश कार्यालय पर चिराग पासवान के मुट्ठी भर समर्थक पहुंचे। उन लोगों ने पारस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की । इतना ही नहीं दफ्तर में रखे पांचों सांसदों के होर्डिंग्स को निकाल कर बाहर में कालिख पोत दी। हालांकि विरोध करने वाले लोगों की संख्या मुट्ठी भर ही थी। उनमें से भी अधिकांश नेता नहीं बल्कि छात्र दिख रहे थे। 

सूरजभान सिंह को बनाया कार्यकारी अध्यक्ष

चिराग के चाचा पशुपति पारस ने दिल्ली में ही अपने पांचों सांसदों के साथ राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक करके चिराग पासवान को राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुक्त कर दिया। पशुपति पारस का दावा है LJP उनकी पार्टी है। और वह इस पार्टी के संगठनकर्ता है। सारे सांसदों ने उन्हें संसदीय दल का नेता चुना है। इस एवज में उन्होंने चिराग पासवान को अध्यक्ष पद से हटाया है। हालांकि, चुनाव आयोग तय करेगा कि असली LJP कौन है। पारस गुट ने पूर्व सांसद सूरजभान सिंह को LJP का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है। पारस गुट की बैठक में यह फैसला हुआ है। अब 5 दिन के अंदर राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा। फिलहाल, सूरजभान सिंह की अध्यक्षता में बैठक होगी। एक-दो दिन में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो सकती है।



Find Us on Facebook

Trending News