लालू पर लिखे किताब के लेखक पर जेडीयू का तंज, कहा-गोपालगंज से होटवार भाया रायसीना नाम ज्यादा होता प्रचलित

PATNA : लालू यादव के जीवन पर लिखी गई किताब गोपालगंज से रायसीना को लेकर प्रदेश में सियासत गर्म है। किताब में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर कई तल्ख टिप्पणी की गई है। जिसके बाद से जेडीयू लगातार हमलावर है। 

आज पार्टी के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने एक प्रेस-वार्ता कर किताब के लेखक पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि लेखक महोदय किताब के नाम को रखने में गलती कर गए। उन्हें इसका नाम गोपाल से होटवार भाया रायसीन रखना चाहिए था। यह नाम ज्यादा प्रासांगिक और प्रचलित होता। 

संजय ने कहा कि लेखक महोदय ने लिखा है कि एनडीए में शामिल होने के 6 महीने के अंदर नीतीश कुमार वापस राजद के साथ आना चाहते थे। मैं यह जानना चाहता हूं कि जब प्रशांत किशोर और लालूजी से इसकी पैरवी कर रहे थे तो क्या वे वहां मौजूद थे। 

जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि जिसका पूरा परिवार भ्रष्टाचार में लिप्त हो। परिवार का कोई सदस्य जेल में और कोई वेल पर हो,  उनकी बात पर क्या तव्वजों देना है। लालूजी की महिमा से पूरा प्रदेश ही नही देश भी वाकिफ है। वहीं जो इस लोकसभा चुनाव के लिए महागठबंधन बना है 23 मई के बाद इसके हालत का भी पता चल जायेगा।  

कुंदन की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News