कटिहार में पिछले 6 चुनाव में निखिल-तारिक में होती थी सीधी लड़ाई, 11 वीं बार मैदान में उतरे तारिक अनवर की गोस्वामी से सीधी भिड़ंत

कटिहार में पिछले 6 चुनाव में निखिल-तारिक में होती थी सीधी लड़ाई, 11 वीं बार मैदान में उतरे तारिक अनवर की गोस्वामी से सीधी भिड़ंत

PATNA: बिहार के सीमांचल से आने वाली कटिहार काफी महत्वपूर्ण सीट है. उक्त सीट से सबसे अधिक दो नेताओं में भिड़ंत हुई है. उस इलाके के दो राजनीतिज्ञों तारिक अनवर और निखिल कुमार चौधरी के बीच सबसे अधिक 6 बार आमना-सामना हुआ. जिसमें दोनों के जीत हार का आंकड़ा बराबर-बराबर का रहा. यानि दोनों राजनीतिज्ञ तीन बार हारे और तीन बार जीते. अंतिम बार यानि 2014 के मोदी लहर के बावजूद भाजपा इस सीट को बचाने में कामयाब नहीं हो सकी. कटिहार सीट से भाजपा के टिकट पर लगातार तीन बार सांसद चुने गए निखिल कुमार चौधरी चुनाव हार गए. इस तरह से एनसीपी के टिकट पर तारिक अनवर पांचवीं बार संसद पहुंचे थे. 2014 और 2019 में काफी कुछ बदला. लिहाजा वहां से छह बार चुनाव लड़े निखिल चौधरी बेटिकट हो गए. सीट बंटवारे में बीजेपी अपनी परंपरागत सीट सहयोगी जदयू के हवाले कर दी. लिहाजा जदयू ने वहां से दुलालचंद गोस्वामी को टिकट दिया. इस तरह से निखिल चौधरी पूरे तौर पर कटिहार की राजनीति से अलग हो गए. 

कटिहार में तारिक और निखिल के बीच रहा है दिलचस्प मुकाबला

कटिहार की राजनीति में निखिल चौधरी और तारिक अनवर दो बड़े चेहरे रहे हैं. दोनों नेताओं के बीच 1996 से लेकर 2014 तक चुनावी टक्कर हुई. 1996, 1998, 1999, 2004, 2009 और 2014 में दोनों के बीच कांटे का मुकाबला हुआ. 1996 और 1998 में कांग्रेस के टिकट पर तारिक अनवर भाजपा के निखिल कुमार को हराकर संसद पहुंचे. 2014 में मोदी लहर में भी निखिल कुमार हार गए और तारिक पांचवीं बार लोकसभा पहुंच गए. 

कटिहार सीट 11वीं बार चुनावी मैदान में उतरे हैं तारीक

कटिहार लोकसभा सीट से तारिक अनवर 10 बार चुनाव लड़े हैं. 11 वीं बार एक बार फिर से कांग्रेस के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं. वे यहां से चार बार कांग्रेस और एक बार एनसीपी के टिकट पर सांसद चुने गए हैं. 1980 में तारिक कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे. 1984 में दूसरी बार लोकसभा पहुंचे. तारिक अनवर नें 1996, 1998 और 2010 में भाजपा के निखिल कुमार चौधरी को हराया.

कटिहार का समीकरण

कटिहार लोकसभा क्षेत्र में मुस्लिम, यादव के साथ-साथ सवर्ण वोटरों का भी वर्चस्व रहा है. आदिवासी समाज के वोटरों की भी अच्छी तादाद है. कटिहार में वोटरों की कुल संख्या 12,72,769 है. इनमें से 6,75,944 पुरुष और 5,96,825 महिला वोटर हैं.

कटिहार में कौन-कौन विस क्षेत्र

कटिहार लोकसभा क्षेत्र में विस की 6 सीटें आती हैं. कटिहार, बलरामपुर, कदवा, प्राणपुर, मनिहारी और बरारी. 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में इन 5 सीटों में से 2 बीजेपी, 2 कांग्रेस, एक राजद और एक सीट सीपीआई के खाते मे गयी थी. कटिहार लोकसभा क्षेत्र में 18 अप्रैल को वोटिंग है. आज यानि 16 अप्रैल को चुनाव प्रचार समाप्त हो गया है. इस बार कांग्रेस के तारिक अनवर और जदयू प्रत्याशी दुलालचंद गोस्वामी के बीच सीधी टक्कर है. अब देखना होगा कि कटिहार के दंगल में किसके सिर पर जीत का सेहरा बंधता है.

कटिहार सीट पर अबतक कौन-कौन उम्मीदवार जीते

साल    जीते    हारे

1957       अवधेष कुमार सिंह (कांग्रेस) सफीक उल हक(निर्दलीय)

1962       प्रिया गुप्ता(पीएसपी)      भोला नाथ बिस्वास(कांग्रेस)

1967       एस केशरी(कांग्रेस) पी गुप्ता(पीएसपी)

1971       ज्ञानेश्वर प्रसाद यादव(बीजेएस)     सीताराम केसरी(कांग्रेस)

1977       युवराज(बीएलडी)  शाह मोहम्मद तारिक(कांग्रेस)

1980       तारिक अनवर(कांग्रेस)     युवराज(जेएनपी)

1984       तारिक अनवर(कांग्रेस)     युवराज(जेएनपी)

1989       युवराज(जनता दल)       तारिक अनवर (कांग्रेस)

1991       मो. युनूस सलीम(जनता दल)      तारिक अनवर (कांग्रेस)

1996       तारिक अनवर(कांग्रेस)     निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)

1998       तारिक अनवर(कांग्रेस)     निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)

1999       निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)      तारिक अनवर (एनसीपी)

2004       निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)      तारिक अनवर (एनसीपी)

2009       निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)      तारिक अनवर (एनसीपी)

2014       तारिक अनवर(एनसीपी)   निखिल कुमार चौधरी(भाजपा)




Find Us on Facebook

Trending News