मुखिया के घर में चोरों की तरह आधी रात को किचन के रास्ते में घुसी पुलिस, पूरा घर कर किया तहस नहस, महिलाओं से बदसलूकी के आरोप

मुखिया के घर में चोरों की तरह आधी रात को किचन के रास्ते में घुसी पुलिस, पूरा घर कर किया तहस नहस, महिलाओं से बदसलूकी के आरोप

DARBHANGA : आम तौर पर पुलिस किसी शिकायत पर दिन में भी समय पर  कार्रवाई के लिए नहीं पहुंचती है, वहीं कई बार पुलिस की कार्रवाई ऐसे समय में  की जाती है, जो उनके कार्यशैली को कटघरे में खड़े कर देती है। दरभंगा जिले के अशोकर पेपर मिल थाना की पुलिस ने ऐसा ही कारनामा किया है। यहां पुलिस थाना क्षेत्र के एक मुखिया के घर में चोरों की तरह घर की गेट तोड़कर किचन के रास्ते अंदर घुस गई। यह सब कार्रवाई के लिए पुलिस ने रात के डेढ़ बजे का समय चुना। वह भी तब जब मुखिया घर में उपस्थित नहीं थे और सिर्फ महिलाएं, बच्चे और छोटा भाई मौजूद थे। इस कार्रवाई के बाद घर से कीमती सामान भी गायब होने की शिकायत महिला मुखिया ने की है।

मामला थाना क्षेत्र के मल्लीपट्टी उत्तरी पंचायत से जुड़ी हुई है। जहां बीती रात पूर्व मुखिया व वर्तमान मुखिया के घर में पुलिस चोरों की तरह अंदर घुस गई। पूर्व मुखिया सनाउल्लाह खान ने बताया  पुलिस ने कारवाई उस वक्त की जब हम एक शादी समारोह में शामिल होने बाहर गए थे। उन्होंने बताया कि वीडियो फुटेज में देखा जा सकता है कि पुलिस किस तरह आधी रात को घर में घुसी और घर के लोगों से बदसलूकी की।

बदले की कार्रवाई का लगाया आरोप

सनाउल्लाह खान ने बताया की एपीएम थाना प्रभारी शैलेश कुमार और उनकी टीम बदले की भावना से यह काम किया है। क्योकि मैंने क्षेत्र में बिगड़ते कानून व्यवस्था को लेकरआईजी, एसएसपी समेत डीएसपी कोपत्र के माध्यम से जानकारी दिया था। जब इस बात की जानकारी थाना प्रभारी शैलेश कुमार को लगी, तो उन्होंने हमारे विरुद्ध इस प्रकार की कार्रवाई की है। इसीलिए इस तरह के थाना प्रभारी को जल्द से जल्द कारवाई करते हुए हटाया जाए। ताकि इलाके में शांति व्यवस्था कायम रह सके।

मुखिया ने कहा – घर से गायब हैं कीमती सामान

वही पीड़ित मल्लीपट्टी उत्तरी पंचायत की मुखिया व हायाघाट मुखिया संघ की सचिव शबाना खानम ने बताया कि जब हमलोग गहरी नींद में सो रहे थे। उसी वक्त एपीएम थाना पुलिस के जवानघर का ताला तोड़कर प्रवेश कर घर के सामान को बिखेर दिया। जिसमें से कीमती सामान अभी भी नही मिल रहा है। वही पुलिस के द्वारा की गई कारवाई का जब हमने विरोध किया तो, उन्होंने हमारे साथ भी धक्का-मुक्की और बदसूलकी की। जो जनप्रतिनिधि के साथ कतई ऐसा नहीं होना चाहिए था। इसीलिए ऐसे अधिकारी पर अवश्य कारवाई होनी चाहिए।

Find Us on Facebook

Trending News