बिहार के सीईओ का खुलासा, लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में पकड़े गए ढाई लाख डुप्लीकेट वोटर

बिहार के सीईओ का खुलासा, लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में पकड़े गए ढाई लाख डुप्लीकेट वोटर

पटना: लोकसभा चुनाव का बिगुल बजनें की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है। चुनाव आयोग कभी भी चुनाव के तारीखों की घोषणा कर सकती है। लोकसभा चुनाव को लेकर आयोग लगातार तैयारियों मे जुटा है। इधर बिहार में बड़ी संख्या में फर्जी या डूप्लीकेट वोटर मिलनें का मामला सामने आया है। इस बार अब तक ढाई लाख डुप्लीकेट वोटरों की जानकारी निर्वाचन विभाग को मिली है। बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एच आर श्रीनिवास ने बताया कि ढ़ाई लाख वैसे वोटरों की पहचान हुई है, जिन्होनें अपना नाम दो स्थानों के वोटर लिस्ट में चढा रखा था। सीईओ ने बताया की वैसे सभी डूप्लीकेट वोटरों के नाम वोटर लिस्ट से हटा दिया गया है।

दरअसल आज बिहार निर्वाचन विभाग की तरफ से राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की ट्रेनिंग आयोजित की गई थी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के ऑफिस में आयोजित वर्कशॉप में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारियों ने जानकारी शेयर की। सीईओ एच आर श्रीनिवास ने सभी प्रतिनिधियों को VVPAT और EVM की जानकारी दी। दलीय नेताओं को काउंटिंग समेत अन्य जानकारी दी गई।

राजनीतिक दल के प्रतिनिधियों ने दी कई सलाह

बैठक में राजनीतिक दल के प्रतिनिधियों ने कई सलाह दी। वाम दल के प्रतिनिधि ने मांग किया कि अनुसूचित जाति के मोहल्लों में बूथ बनाया जाए। वहीं कई राजनीतिक दलों ने मतदान के दिन रिक्शा, ठेला पर प्रतिबंध नहीं लगाने को कहा। इस पर सीईओ ने कहा कि इस पर प्रतिबंध नहीं लगेगा। सीईओ ने सभी राजनीतिक दलों से चुनावी विज्ञापन के लिए ली जाने वाली हिसाब की भी जानकारी दी। इस बार मीडिया को मीडिया सर्टिफिकेशन की जानकारी लेने के बाद ही विज्ञापन प्रसारित करना होगा। सीईओ एच आर श्रीनिवास ने बताया कि अगर पेड न्यूज पकड़ा गया तो प्रत्याशी के खर्च में वह जोड़ा जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News