माफिया बने मेहमान! दलालों को पटना DTO दफ्तर की मिली ठेकेदारी, अफसरों को मुंहमांगी कीमत देकर मिलता है ठेका, लाखों-करोड़ों का है व्यापार

माफिया बने मेहमान! दलालों को पटना DTO दफ्तर की मिली ठेकेदारी, अफसरों को मुंहमांगी कीमत देकर मिलता है ठेका, लाखों-करोड़ों का है व्यापार

PATNA: पटना डीटीओ दफ्तर में माफियाराज खत्म नहीं हो रहा। पटना परिवहन कार्यालय में करोड़ों की गड़बड़ी के आरोप में तत्कालीन डीटीओ को हाल ही में सस्पेंड किया गया है। फिर भी अधिकारी और कर्मी सबक नहीं ले रहे। आज भी बिस्कोमान स्थित जिला परिवहन कार्यालय में माफियाओं का साम्राज्य है। माफियाओं को डीटीओ दफ्तर में कुर्सी दी जाती है और वह अवैध काम कराने का ठेका लेता है। यूं कहें कि माफिया एक समय अवधि का पट्टा लेता है। बदले में अधिकारियों को मनचाहा दाम दिया जाता है।

दलालों से मेहरबानी के मायने ?

पटना डीटीओ दफ्तर में दलालों का राज है। दलाल अब बिस्कोमान के बाहर नहीं बल्कि डीटीओ दफ्तर के अंदर काबिज हो गये हैं। विभाग के अधिकारियों और कर्मियों की मिलीभगत से उसे कुर्सी और टेबल दिया जाता है। फिर वो दलाल आराम से कर्मचारी बनकर काम करता है। आप तस्वीर में जो शख्स को देख रहे हैं उसका नाम मिथुन बताया जाता है। वो काफी समय से डीटीओ दफ्तर में कर्मचारी की शक्ल में काम करता है। बीच में जब बालू खनन को लेकर सरकार सख्त हुई थी तो विभाग के लोगों ने उसे साईड किया था। अब फिर मजे में काम कर रहा। जानकार बताते हैं कि यह शख्स डीटीओ दफ्तर में काम कराने का ठेका लेता है। बदले में वो कर्मियों-्अधिकारियों को मुंहमांगी कीमत देता है।

डीटीओ पर सवाल

इस संबंध में हमने पटना के डीटीओ श्री प्रकाश से उनके सरकारी मोबाईल 6202751158 पर दो बार फोन कर जानकारी चाही। लेकिन उन्होंने फोन ही रिसीव नहीं किया। हमने मैसेज कर इस बारे में जानकारी चाही। लेकिन डीटीओ साहब ने कोई जवाब नहीं दिया। 


Find Us on Facebook

Trending News