कैमूर की तीन नदियों के जलस्तर बढ़ने से कई गांव बाढ़ की चपेट में, लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त

कैमूर की तीन नदियों के जलस्तर बढ़ने से कई गांव बाढ़ की चपेट में, लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त

कैमूर. जिले में पिछले दिनों हुई लगातार वर्षा के कारण कर्मनाशा, धर्मावती और गोरिया नदी का जलस्तर बढ़ जाने से कैमूर जिले के नुआंव प्रखंड का पंजरान्व गांव पूरी तरह से पानी से चारों तरफ घीर चुका है. कई घरों के अंदर तक पानी प्रवेश कर गया है, जिससे लोगों का जीना मुश्किल हो गया है. लोग अपना सामान लेकर नाव के सहारे उचे स्थान पर जा रहे हैं, लेकिन सरकार की तरफ से किसी भी प्रकार का मदद ग्रामीणों तक अब तक नहीं पहुंच पाया है. अधिकारी जाते भी हैं तो दूर से नजारा देख वापस लौट जाते हैं, जिससे ग्रामीणों में नाराजगी है.

ग्रामीण बताते हैं पंजराव गांव के पास 3 नदियों का मिलन स्थल है, जिसमें कर्मनासा, धर्मावती, और गोरिया तीनों नदियों का बाढ़ का पानी पंजराव गांव के चारों तरफ फैल गया है. यह पानी गांव में भी कई घरों में कमर से भी ऊपर पहुंच चुका है. उस घर के लोग नाव के सहारे सारा सामान लेकर गांव के ऊंचे स्थल पर पहुंच रहे हैं, जिससे की जिंदगी बचाई जा सके. लेकिन प्रशासनिक मदद नहीं मिलने से परेशान है.

अधिकारी आए भी तो दूर से ही बाढ़ का मंजर देख वापस लौट गए. आपदा विभाग की तरफ से भी किसी भी प्रकार का कोई मदद नहीं हुआ. अधिकारियों से कई बार सरकारी नाव की गुहार लगाई गई, लेकिन उनके द्वारा सरकारी नाव भी उपलब्ध नहीं कराया गया. गांव में पहले से मौजुद रहे एक-दो नाव के बदौलत ग्रामिण मदद एक दुसरे का कर रहे हैं.

वहीं मुखिया पति मकसूदन यादव बताते हैं कि हम लोग पंजराव को बाढ़ ग्रस्त इलाका घोषित करने के लिए कई बार अधिकारियों से गुहार लगाये है, लेकिन उसका नतीजा कुछ नहीं हुआ. इस पंचायत क्षेत्र के हजारों एकड़ में लगे धान के फसल और सब्जी की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गए. लोगों के घरों में पानी घुस गया, लोग खाने के लिए तरस रहे हैं,लेकिन सरकारी मदद के नाम पर कुछ नहीं है.

Find Us on Facebook

Trending News