अग्निपथ विरोध के नाम पर नक्सलियों ने लखीसराय में जलाई थी ट्रेन, एसपी ने किया बड़ी साजिश का भंडाफोड़

अग्निपथ विरोध के नाम पर नक्सलियों ने लखीसराय में जलाई थी ट्रेन, एसपी ने किया बड़ी साजिश का भंडाफोड़

लखीसराय. अग्निपथ योजना के विरोध में लखीसराय रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को जलाने की घटना नक्सलियों की साजिश थी. हाल ही में पुलिस की गिरफ्त में आए एक नक्सली से हुए पूछताछ में इसका खुलासा हुआ है. लखीसराय के एसपी पंकज कुमार के अनुसार नक्सली मनश्याम दास उर्फ़ राहुल उर्फ़ सुदामा उर्फ़ सुरेश दास से हुई पूछताछ में उसने इस साजिश का खुलासा किया है. पुलिस ने बताया कि लखीसराय में ट्रेनों को जलाने के पीछे नक्सलियों का हाथ था. 

दरअसल, सेना में भर्ती की प्रक्रिया में हुए बदलाव को लेकर पूरे देश में आक्रोश देखने को मिला था. 17 जून को अग्निनपथ योजना को लेकर बिहार के कई रेलवे स्टेशनों पर प्रदर्शनकारी ने विरोध जताते हुए ट्रेनों को जला दिया था. इसमें लखीसराय स्टेशन भी शामिल था. लखीसराय में नई दिल्ली से भागलपुर जाने वाली विक्रमशिला एक्सप्रेस ट्रेन में आग लगा दी गई थी. बाद में जनसेवा एक्सप्रेस को भी आग के हवाले कर दिया गया. इसमें 2 दर्जन से ज्यादा बोगियां जल गई थी. 


उसी को लेकर लखीसराय पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए दावा किया है कि विक्रमशिला और जनसेवा में आग लगाने की घटना के पीछे नक्सली थे. एसपी पंकज कुमार ने बताया कि स्पेशल इंटेलीजेंस ब्यूरो तेलेंगाना से प्राप्त सूचना के आधार पर लखीसराय के कवैया थानाक्षेत्र के गोसाई टोला नया बाजार में विकास मोदी के घर पर छापामारी की गई. वहां किराया पर रह रहे मन श्याम दास को पकड़ा गया. उसके खिलाफ भागलपुर जिले में भी मामला दर्ज है. मनश्याम गिरिडीह जिले में भाकपा माओवादी बलवीर महतो उर्फ़ रौशन से जुड़ा रहा है जिसने वर्ष 2019 में आत्मसमर्पण किया था. 

पुलिस को मनश्याम के पास से कई प्रकार के आपत्तिजनक सामान मिले हैं. इसमें 5 जिन्दा गोलियां, डेटोनेटर, नक्सल साहित्य आदि शामिल है. एसपी पंकज कुमार ने बताया कि लखीसराय में ट्रेन जलाने के मामले में जो जांच हुई और अब मनश्याम से जो खुलासे हुए हैं उसमें यह इसके संकेत मिले है कि इसने आंदोलन के दिन ट्रेन को जलाने की योजना बनाई थी. अग्निपथ के नाम पर नक्सलियों ने ट्रेनों को जला दिया. 

Find Us on Facebook

Trending News